सोलन: कृषि विश्वविद्यालयों की रैंकिंग में नौणी विवि को मिला 11वां स्थान

नौणी विवि में समशीतोष्ण फलों के पौधों के लिए 5 दिसम्बर तक भेजे मांग

सोलन: डॉ॰ वाईएस परमार औद्यानिकी और वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी उच्च गुणवत्ता वाले समशीतोष्ण फलों की रोपण सामग्री की वार्षिक बिक्री जनवरी 2021 के प्रथम सप्ताह में करने जा रहा है। विश्वविद्यालय एवं उसके अंतर्गत आने वाले कृषि विज्ञान एवं अनुसंधान केन्द्रों द्वारा तैयार किए गए सेब, नाशपाती, प्लम, खुमानी आडू, कीवी, परसीमन, अनार आदि फलों के उच्च गुणवत्ता वाले पौधों के लिए किसान बागवान को 5 दिसम्बर से पहले अपनी मांग विश्वविद्यालय/केन्द्रों को भेजनी होगी। यह निर्णय, कोविड़ 19 की रोकथाम के लिए जारी दिशानिर्देशों की अनुपालना के मद्देनजर लिया गया है।

विश्वविद्यालय द्वारा सभी इच्छुख किसानों/ बागवानों से आग्रह किया गया है कि वह अपनी-अपनी पौधों की मांग विश्वविद्यालय की वैबसाइट (www.yspuniversity.ac.in) से मांग पत्र डाउनलोड कर विश्वविद्यालय को भरकर, डाक या ईमेल के माध्यम से 5 दिसम्बर या उससे पहले भेजे। इस मांग पत्र पर सभी प्रकार के फलों एवं उनकी उपलब्ध क़िस्मों, ईमेल आदि जानकारी दी गई है।

मांग पत्र में किसानों को ईमेल एवं व्हाट्सएप नंबर लिखना होगा ताकि आंबटित पौधों की जानकारी उन्हें दी जा सके। पौधे लगाने का स्थान व जमीन का खसरा नंबर लिखना भी अनिवार्य है, ताकि पौध वितरण के बाद विश्वविद्यालय/ कृषि विज्ञान केंद्र या उद्यान विभाग के अधिकारी कभी भी पौधों के स्वास्थ्य की जांच के लिए बागीचों में जा सके।

ईमेल के माध्यम से मांग पत्र विश्वविद्यालय को uhf.seed@gmail.com पर भेजना होगा। डाक के माध्यम से बागवान अपना मांग पत्र विभागाध्यक्ष, बीज विज्ञान विभाग, डॉ वाईएस परमार औदयानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी सोलन 173230 पर भेज सकते हैं। इसके अतिरिक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले सभी कृषि विज्ञान एवं अनुसंधान केन्द्रों पर भी उनके द्वारा वितरित की जानी वाली रोपण सामग्री के लिए भी किसान अपना मांग पत्र, केंद्र को डाक एवं ईमेल के माध्यम से 5 दिसम्बर या उससे पहले तक भेज सकते हैं। सभी केंद्र के पोस्टल एड्रैस एवं ईमेल विश्वविद्यालय की वैबसाइट पर उपलब्ध है।

नौणी विवि, केवीके, अनुसंधान केंद्र में समशीतोष्ण फलों के पौधों के लिए 5 दिसम्बर तक भेजे मांग

डॉ॰ वाईएस परमार औद्यानिकी और वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी उच्च गुणवत्ता वाले समशीतोष्ण फलों की रोपण सामग्री की वार्षिक बिक्री जनवरी 2021 के प्रथम सप्ताह में करने जा रहा है। विश्वविद्यालय एवं उसके अंतर्गत आने वाले कृषि विज्ञान एवं अनुसंधान केन्द्रों द्वारा तैयार किए गए सेब, नाशपाती, प्लम, खुमानी आडू, कीवी, परसीमन, अनार आदि फलों के उच्च गुणवत्ता वाले पौधों के लिए किसान बागवान को 5 दिसम्बर से पहले अपनी मांग विश्वविद्यालय/केन्द्रों को भेजनी होगी। यह निर्णय, कोविड़ 19 की रोकथाम के लिए जारी दिशानिर्देशों की अनुपालना के मद्देनजर लिया गया है।

विश्वविद्यालय द्वारा सभी इच्छुख किसानों/ बागवानों से आग्रह किया गया है कि वह अपनी-अपनी पौधों की मांग विश्वविद्यालय की वैबसाइट (www.yspuniversity.ac.in) से मांग पत्र डाउनलोड कर विश्वविद्यालय को भरकर, डाक या ईमेल के माध्यम से 5 दिसम्बर या उससे पहले भेजे। इस मांग पत्र पर सभी प्रकार के फलों एवं उनकी उपलब्ध क़िस्मों, ईमेल आदि जानकारी दी गई है।

मांग पत्र में किसानों को ईमेल एवं व्हाट्सएप नंबर लिखना होगा ताकि आंबटित पौधों की जानकारी उन्हें दी जा सके। पौधे लगाने का स्थान व जमीन का खसरा नंबर लिखना भी अनिवार्य है, ताकि पौध वितरण के बाद विश्वविद्यालय/ कृषि विज्ञान केंद्र या उद्यान विभाग के अधिकारी कभी भी पौधों के स्वास्थ्य की जांच के लिए बागीचों में जा सके।

ईमेल के माध्यम से मांग पत्र विश्वविद्यालय को uhf.seed@gmail.com पर भेजना होगा। डाक के माध्यम से बागवान अपना मांग पत्र विभागाध्यक्ष, बीज विज्ञान विभाग, डॉ वाईएस परमार औदयानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी सोलन 173230 पर भेज सकते हैं। इसके अतिरिक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले सभी कृषि विज्ञान एवं अनुसंधान केन्द्रों पर भी उनके द्वारा वितरित की जानी वाली रोपण सामग्री के लिए भी किसान अपना मांग पत्र, केंद्र को डाक एवं ईमेल के माध्यम से 5 दिसम्बर या उससे पहले तक भेज सकते हैं। सभी केंद्र के पोस्टल एड्रैस एवं ईमेल विश्वविद्यालय की वैबसाइट पर उपलब्ध है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *