शिमला: SFI ने किया नर्सिंग छात्राओं के साथ मिलकर धरना प्रदर्शन

शिमला: SFI ने किया नर्सिंग छात्राओं के साथ मिलकर धरना प्रदर्शन

  • छात्रों को प्रमोट करने  व कोरोना काल में छात्रों से अतिरिक्त फीस वसूलने के खिलाफ धरना प्रदर्शन

शिमला: SFI राज्य कमेटी हिमाचल प्रदेश द्वारा नर्सिंग छात्राओं के साथ मिलकर हिमाचल प्रदेश अजय सचिवालय के बाहर नर्सिंग, GNM तथा पोस्ट बेसिक नर्सिंग के छात्रों को प्रमोट करने के लिए व कोरोना काल में छात्रों से अतिरिक्त फीस वसूलने के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया गया। इस दौरान SFI का प्रतिनिधिमंडल नर्सिंग छात्राओं के साथ हिमाचल प्रदेश स्वास्थय शिक्षा सचिव से भी मिला और उनके सामने मांग रखी गई कि हॉस्टल व मिसलेनियस चार्जज के नाम पर फीस वसूलना बन्द हो।

 पिछले 8 महीनों से मार्च 2020 के बाद हिमाचल प्रदेश में भी कोरोना महामारी के बाद सभी शिक्षण संस्थान बन्द हैं जिस कारण छात्रों को होस्टल बन्द करके प्रशासन ने घर मे ही रहकर ऑनलाइन पढ़ाई करने आदेश दिए थे। इस दौरान होस्टल बन्द थे तो छात्राओं ने न ही होस्टल मेस का इस्तेमाल किया, न ही कॉलेज की परिवहन सुविधा का इस्तेमाल किया। लेकिन उसके बावजूद भी सभी नर्सिग कॉलेजों में छात्राओं से 70 हजार के करीब हॉस्टल, मेस व परिवहन के नाम पर फीस ली जा रही है जो कि सरासर लूट है।

हम जानते हैं कि कोरोना काल मे आर्थिक संकट गहराया है जिससे प्रदेश में भी आमदनी के साधन लगभग समाप्त होते जा रहे हैं, लेकिन निजी शिक्षण संस्थानो द्वारा फीस बढ़ोतरी कर छात्रों व अभिभावकों को इस तरह से प्रताड़ित करने से हमारे प्रदेश में भी छात्रों के बीच आत्महत्या के मामले बढ़ते जा रहे हैं। जिसके लिए कहीं न कहीं हमारी सरकार व शिक्षा विभाग जिम्मेवार है जो इन निजी शिक्षण संस्थानों की लूट को रोकने में नाकाम रहे हैं। वर्तमान समय मे हिमाचल प्रदेश में 32 के करीब निजी व सरकारी नर्सिग कॉलेज चल रहे हैं जिसमें 6500 के करीब छात्राए अध्ययनरत हैं।

मार्च में शैक्षिणक संस्थान बन्द होने के बाद अभी तक छात्र न तो क्लीनिकल ट्रेनिग पर हॉस्पिटल जा पाए हैं न ही छात्राओं के प्रैक्टिकल्स लिए गए हैं। ऐसे में राष्ट्रीय नर्सिंग कॉउन्सिल द्वारा भी छात्राओं को प्रमोट करने के लिए राज्यों को निर्देश दिए गए। लेकिन हिमाचल प्रदेश सरकार व विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा नर्सिंग छात्रो को अभी तक न तो प्रमोट किया गया है न ही उनकी परीक्षाओं को लेकर कोई दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। ऐसे में छात्र मानसिक रूप से भी परेशान हैं और परीक्षाओं को लेकर चल रही असमंजस ने छात्रों के भविष्य को दांव पर लगा दिया है।

इसलिए SFI मांग करती है कि शीघ्र बीएससी 1, 2, 3 GNM 1 व 2 वर्ष के छात्रों को प्रमोट किया जाए। इसके साथ ही बीएससी पोस्ट बेसिक नर्सिंग व एमएससी नर्सिंग के छात्रों को भी प्रमोट किया जाए प्रैक्टिकल्स के नाम पर मानसिक रूप से प्रताडित करना बंद किया जाए। नर्सिंग में वर्ष भर के प्रैक्टिकल्स फाइल्स को बिना प्रैक्टिकल ट्रेनिग के 1 सप्ताह में बनाने के लिए छात्राओं पर दबाव बनाया जा रहा है। जो कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के खिलाफ है।सरकार अगर 15 नवम्बर तक इन मांगों को पूरा करने के लिए कोई पहलकदमी नहीं करती है तो SFI पूरे प्रदेश से नर्सिंग छात्राओं को एकजुट करते हुए हरेक विधानसभा क्षेत्र में विधानसभा सदस्य का घेराव करेगी। व 20 नवम्बर को मुख्यमंत्री आवास पर विरोध प्रदर्शन करेगी।

इस दौरान स्वास्थ्य शिक्षा सचिव ने छात्रों से बातचीत करते हुए कहा है कि अभी किसी भी प्रकार के प्रैक्टिकल्स व परीक्षाएँ नहीं ली जाएगी। इससे संबन्धित सरकारी आदेश आज ही सभी नर्सिंग कॉलेजों को जारी किए जाएंगे और प्रमोशन को लेकर अगले 1 सप्ताह के अंदर चिकित्सक शिक्षा विभाग फैसला लेगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *