10 हजार बेसहारा गौवंश को किया जाएगा आश्रय प्रदान : पशुपालन मंत्री

10 हजार बेसहारा गौवंश को किया जाएगा आश्रय प्रदान : पशुपालन मंत्री

  •  सभी निर्माणाधीन गौ-सदनों और गौ-अभ्यारण्यों का निर्माण कार्य फरवरी, 2021 तक पूर्ण करने के निर्देश

  • पशुपालन मंत्री ने 2022 तक प्रदेश की सड़कों को बेसहारा पशु मुक्त बनाने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए कार्य में तेजी लाने के निर्देश भी दिए

शिमला: गौ सेवा आयोग की दूसरी बैठक की अध्यक्षता पशुपालन मंत्री वीरेन्द्र कंवर ने आज यहां की। इस अवसर पर उन्होंने सभी निर्माणाधीन गौ-सदनों और गौ-अभ्यारण्यों का निर्माण कार्य फरवरी, 2021 तक पूर्ण करने के निर्देश दिए, ताकि मार्च, 2021 तक सड़कों से लगभग 10 हजार बेसहारा गौवंश को आश्रय उपलब्ध करवाया जा सके। उन्होंने pजनवरी, 2022 तक प्रदेश की सड़कों को बेसहारा पशु मुक्त बनाने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए कार्य में तेजी लाने के निर्देश भी दिए।

उन्होंने कहा कि जिला कांगड़ा में सात गौ-अभ्यारण्यों के निर्माण कार्य शीघ्र पूर्ण कर इनमें बेसहारा गौवंश को आश्रित किया जाएगा। उन्होंने अन्य जिलों में भी गौ-अभ्यारण्य के निर्माण के लिए भूमि चयन की प्रक्रिया शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए।

वीरेन्द्र कंवर ने कहा कि घायल बेसहारा गौवंश को सड़कों से उठाने के लिए लिफ्ट असेंबली वाहन खरीदे जाएं, ताकि उन्हें आसानी से सड़कों से उठाकर गौ-सदनों/गौ-अभ्यारण्यों में आश्रित करवाया जा सके। उन्होंने गौ-अभ्यारण्य/ गौ-सदनों की छतों पर सोलर सिस्टम लगाने के लिए परियोजना तैयार करने के निर्देश दिए।

बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव पशुपालन निशा सिंह, निदेशक पशुपालन डाॅ. अजमेर डोगरा, गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष अशोक शर्मा और आयोग के सरकारी व गैर सरकारी सदस्य उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *