शिमला कोटखाई प्रकरण: वरिष्ठ भाजपा नेता शांता कुमार ने मुख्यमंत्री जयराम को लिखा पत्र

शिमला कोटखाई प्रकरण: वरिष्ठ भाजपा नेता शांता कुमार ने मुख्यमंत्री जयराम को लिखा पत्र

  • पत्र में लिखा : नई विशेष जांच समिति बनाई जाए, कोई अपराध ऐसा नहीं होता जो अपने पीछे कोई निशानी न छोड़े, तलाश करने वाले तलाश करते हैं….

पालमपुर: भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शान्ता कुमार ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने लिखा कि गुड़िया कांड के बाद आज भी दुखी परिवार न्याय के लिए सुप्रीम कोर्ट से हाईकोर्ट तक भटक रहा है। जिस परिवार की बेटी का बलात्कार किया गया फिर उसकी हत्या कर दी गई और उनके अनुसार वे अपराधी आज भी उसी गांव में खुलेआम घूम रहे हैं – जरा सोचिए उस परिवार के दिल पर पीड़ा का कितना बड़ा पहाड़ रोज टूटता होगा। कोई भी मनुष्य उस परिवार की प्रतिदिन की इस पीड़ा को अनुभव कर सकता है।

शान्ता कुमार ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से पत्र में विशेष आग्रह किया कि एक नई विशेष जांच समिति बनाई जाए। उसमें हिमाचल प्रदेश के तीन अवकाश प्राप्त और तीन वर्तमान प्रमुख पुलिस अधिकारियों को नियुक्त किया जाए। यदि उचित लगे तो कुछ आईएएस अधिकारी भी शामिल किये जाए। उसमें विपक्ष को पूरी तरह विश्वास में लिया जाए।  6 में से 2 या 3 नियुक्तियां विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री के सुझाव पर की जाए।  प्रदेश सरकार स्वयं हिमाचल उच्च न्यायालय को निवेदन करे कि इस विशेष जांच समिति की जांच की निगरानी उच्च न्यायालय करे।

उन्होंने कहा कि सी.बी.आई. खाली हाथ लौटी है उसका एक ही कारण था कि उस समय के कुछ पुलिस अधिकारियों ने किसी बड़े नेता के कहने पर सभी सबूतों को पूरे वैज्ञानिक तरीके से नष्ट कर दिया था, परन्तु कोई अपराध ऐसा नहीं होता जो अपने पीछे कोई ना कोई निशानी न छोड़े। तलाश करने वाले तलाश करते हैं।

शान्ता कुमार ने अनुभव के आधार पर कहा है कि हिमाचल की सरकारी अफसरशाही भारत में योग्यता में किसी से कम नही है। उन्होंने विश्वास से कहा है कि इस जांच से अपराधी अवश्य पकड़े जाएँगे।  हिमाचल प्रशासन के लिए यह बड़े गर्व की बात होगी कि जो सी.बी.आई नहीं कर सकी वह प्रदेश सरकार ने कर दिखाया। यदि न भी हो तो कम से कम उस परिवार को और प्रदेश की जनता को यह सन्तुष्टी तो हो जाएगी कि हिमाचल सरकार ने यथासंभव बड़े से बड़ा प्रयत्न किया है।  उन्होंने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से आग्रह किया है कि उनके इस सुझाव को अवश्य लागू करे।  उन्होंने कहा कि उन्होंने गुड़िया के पिता से पिछले दिनों फोन पर बात की थी। उनका परिवार और मेरे जैसे लोग इस पीड़ा को तब तक  अनुभव करते रहेंगे जब तक मेरे इस सुझाव को सरकार स्वीकार न करे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *