हिमाचल: धर्मशाला और मण्डी में शुरू हुई 108 बाइक एम्बुलेंस सेवा

हिमाचल: धर्मशाला और मण्डी में शुरू हुई 108 बाइक एम्बुलेंस सेवा

 शिमला: मण्डी और धर्मशाला के लिए 4 नई फर्स्ट रिस्पोंड बाईक एम्बुलेंस स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. राजीव सहजल ने लांच की। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि  शिमला में अप्रैल, 2018 में बाईक एम्बुलेंस सेवा की शुरूआत की गई थी। बाईक एम्बुलेंस सेवा का मुख्य उद्देश्य अति दुर्गम क्षेत्रों में भी मरीजों को स्वास्थ्य सेवाएं सुनिश्चित करना था। उन्होंने बताया कि जिस क्षेत्र में चार पहिया एम्बुलेंस सुविधा की पहुंच नहीं थी वैसी जगहों के लिए दो पहिया एम्बुलेंस सेवा कारगर सिद्ध हुई है, जिससे मरीजों को चिकित्सा सुविधा मुहैया करवाई गई है।
उन्होंने बताया कि आपातकालीन चिकित्सा तकनिशियन को पूर्ण रूप से प्रशिक्षण दिया जाता है। उन्होंने बताया कि आज चार और एम्बुलेंस बाईक को जोड़ा गया है। चार बाईकों में से दो मण्डी तथा दो धर्मशाला के लिए भेजी जाएगी, जिससे शिमला के साथ-साथ अब धर्मशाला एवं मण्डी जिला में इस सुविधा का लाभ प्राप्त कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र में और अधिक एम्बुलेंस को जोड़ने की तलाश की जाएगी ताकि राज्य के अति दुर्गम क्षेत्रों में भी स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाई जा सकेगी।
उन्होंने बताया कि इस नई पहल के अंतर्गत लोगों को और अधिक स्वास्थ्य सुविधा प्राप्त होगी। उन्होंने बताया कि शिमला में 2018 से अब तक दो पहिया एम्बुलेंस के माध्यम से 2165 मरीजों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाई गई है, जिसमें से 50 प्रतिशत एमरजेंसी मरीजों को प्री हाॅस्पीटल केयर रोगी को स्थान पर स्वास्थ्य उपचार दिया गया।
उन्होंने बताया कि बाईक एम्बुलेंस सेवा का मुख्य उद्देश्य पिछले दो वर्षों में पूण हुआ है जिसमें आज चार अन्य एम्बुलेंस को जोड़ा गया है। उन्होंने बताया कि आक्सीजन की जरूरत पड़ने पर एम्बुलेंस में आक्सीजन की सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है तथा गर्भवती महिलाओं के लिए डिलिवरी किट भी उपलब्ध करवाई गई है, जिससे आपतकालीन स्वास्थ्य तकनीशियन इन सारी सुविधाओं के माध्यम से मरीजों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवा सकते हैं।
इस अवसर पर स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी, विशेष स्वास्थ्य सचिव डाॅक्टर निपुण जिंदल, निदेशक स्वास्थ्य सेवाएं डाॅक्टर बी बी कटोच एवं निदेशक दंत चिकित्सा अजय सिंह चैहान उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *