अटल टनल से बॉर्डर तक पहुंचने में सेना का बचेगा एक दिन

अटल टनल से बॉर्डर तक पहुंचने में सेना का बचेगा एक दिन

  • यात्रा के समय में कटौती होने से घाटी के किसानों को अपने उत्पाद आसानी से मंडियों तक पहुंचाने में मिलेगी सहायता

  • अटल टनल सामरिक दृष्टि से अत्यंत महत्त्वपूर्णः जय राम ठाकुर

शिमला: अटल टनल रोहतांग सामरिक दृष्टि से बहुत महत्त्वपूर्ण है जिससे देश के सैन्य बलों को वर्ष भर सीमावर्ती क्षेत्रों के लिए आवाजाही की सुविधा मिलेगी। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां कहा कि मनाली-लेह-लद्दाख सड़क मार्ग सुरक्षा के लिहाज से बहुत अहम है और अटल सुरंग से सैन्य बलों को कम समय में आवाजाही के साथ-साथ विभिन्न प्रकार की सामाग्री की आपूर्ति करने की सुविधा मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस सुरंग के निर्माण से सैन्य बलों के आवागमन और आपूर्ति में एक दिन के समय की बचत होगी।  

जय राम ठाकुर ने कहा कि सभी मौसमों में सुरंग के खुले रहने से लाहौल-स्पीति के लोगों को भी लाभ मिलेगा और वे वर्ष भर देश के साथ संपर्क में बने रहेंगे। उन्होंने कहा कि 9.02 किलोमीटर लम्बी अटल सुरंग से पर्यटकों को भी लाभ मिलेगी क्योंकि मनाली से लाहौल-स्पीति के बीच कई किलोमीटर की दूरी कम होगी।

उन्होंने कहा कि यात्रा के समय में कटौती होने से घाटी के किसानों को अपने उत्पाद आसानी से मंडियों तक पहुंचाने में सहायता मिलेगी। अब उनकी प्रमुख फसलें जैसे मटर, ब्रोकली और आलू कुल्लू और अन्य मंडियों तक पहुंचने से पहले ट्रकों में नहीं सड़ेंगी। उन्होंने कहा कि पेट्रोल और सब्जियों जैसी आवश्यक वस्तुऔ की आपूर्ति भी वर्ष भर सुनिचित होगी।

जय राम ठाकुर ने कहा कि इस सुरंग के निर्माण से लाहौल घाटी में पर्यटन विकास को भी व्यापक स्तर पर प्रोत्साहन मिलेगा। उन्होंने कहा कि अटल टनल के खुलने से पहले लाहौल और स्पीति के निवासियों को स्वास्थ्य सेवाओं और खाद्य सामग्री जैसी बुनियादी सेवाओं के लिए बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता था। अब वे आसानी से मनाली पहुंच सकेंगे और देश के अन्य हिस्सों से भी उनका संपर्क बना रहेगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *