विधानसभा मानसून सत्र :विधायक क्षेत्र विकास निधि बहाल

विधानसभा मानसून सत्र :विधायक क्षेत्र विकास निधि बहाल

हिमाचल: : विधानसभा के मानसून सत्र में आज विधायक निधि को लेकर मुख्यमंत्री ने सदन में वक्तव्य दिया और कहा प्रदेश में विधायक क्षेत्र विकास निधि बहाल कर दी गई है। इस योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2020-21 के दौरान कुल 50 लाख रूपये प्रति विधानसभा चुनाव क्षेत्र जारी किये जाएँगे। इसकी 25 लाख की प्रथम किश्त अक्टूबर माह में जारी की जाएगी और 25 लाख की दूसरी किस्त पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों के बाद के बाद जारी की जाएगी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि ऐसा इसलिए किया जा रहा है कि नवंबर में पंचायत चुनाव की आचार संहिता लग सकती है। विधायकों के आग्रह के बाद ही यह निर्णय लिया गया है।

कोरोना काल में इस निधि को दो साल के लिए निलंबित कर दिया गया था। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि विधायक एक चुना हुआ प्रतिनिधि होता है और स्वभाविक रूप से चुने हुए प्रतिनिधियों की अपने-अपने क्षेत्रों के लिए जिम्मेवारियां होती हैं। विधायक के नाते वह अपने क्षेत्र के लोगों की मदद कर सके, उस दृष्टि से बहुत सी व्यवस्थाएं निर्धारित हैं। उन व्यवस्थाओं का पालन करते हुए विधायक अपने क्षेत्र के लोगों के लिए काम करता है।

वहीं मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा है कि अग्निशमन केंद्र या उपकेंद्र खोलने पर भटियात, चिड़गांव और किलाड़ की रिपोर्ट मांगेंगे, उसके बाद ही यहां विचार होगा। यह बात प्रश्नकाल के दौरान भरमौर के विधायक जियालाल के सवाल के  जवाब में कही। शुक्रवार को सदन में सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि पांगी में लकड़ी के मकान बने हैं। जान-माल का खतरा भी है। रोहड़ू के कांग्रेस विधायक मोहन लाल ब्राक्टा के अनुपूरक सवाल के जवाब में सीएम ने कहा कि चिड़गांव, डोडरा क्वार आदि क्षेत्र पिछड़े हुए हैं, वहां भी देखा जाएगा। भटियात के भाजपा विक्रम सिंह जरयाल ने कहा कि उनके यहां आगजनी की घटना से चार लोगों की जान गई है। सीएम ने उन्हें भी इससे आश्वस्त किया कि वहां भी इसे खोलने पर विचार होगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *