हिमाचल विधानसभा मानसून सत्र शुरू : पहले ही दिन पक्ष-विपक्ष की नोक-झोंक से गर्माया सदन

हिमाचल विधानसभा मानसून सत्र शुरू : पहले ही दिन पक्ष-विपक्ष की नोक-झोंक से गर्माया सदन

शिमला: हिमाचल प्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र आज से (सोमवार) शुरू हो गया। विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने सदन में कोरोना से बचाव के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी दी। इसके बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व विधायक राकेश वर्मा, चंद्र वर्कर के निधन पर सदन में शोक प्रस्ताव पेश किया। हिमाचल के वीर सैनिकों की शहादत पर शोक जताया।

जैसे ही मानसून सत्र शुरू हुआ, विपक्ष की ओर से स्थगन प्रस्ताव दिया गया। विधानसभा में कोरोना महामारी से पैदा हुई स्थिति पर चर्चा करवाने की मांग की गई। नियम-67 के तहत दिए गए स्थगन प्रस्ताव में तत्काल प्रभाव से कोरोना संकट की स्थिति पर चर्चा करना जरूरी है। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष विपिन परमार ने नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री को प्रस्ताव पर बोलने की अनुमति दी लेकिन विपक्ष हंगामा करता रहा। भाजपा और कांग्रेस विधायकों में जमकर नोक-झोंक हुई। विधानसभा अध्यक्ष विपिन परमार ने विपक्ष से कहा कि आपके प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया है आप अपनी बात रखें।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा आपकी बात सुनी जाएगी, पहले जो नए मंत्री बने हैं, उनका परिचय करवाना जरूरी है।

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, आशा कुमारी, रामलाल ठाकुर की ओर से दिए गए प्रस्ताव में मांग की गई कि कोरोना के कारण उपजी स्थिति बेहद चिंताजनक है, जिसे देखते हुए सदन में सरकार को इस पर चर्चा करवानी चाहिए। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा राज्य में हालात खराब होते जा रहे हैं। ऐसे में जरूरी है कि सरकार दूसरे सभी काम छोड़कर पहले कोरोना महामारी पर चर्चा करे।

मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए सरकार की ओर से अब तक क्या कदम उठाए गए हैं? सदन को अवगत करवाया जाए। इस महामारी के कारण राज्य की अर्थव्यवस्था पर कितना असर पर पड़ा तथा राज्य के कितने लोग बेरोजगार हुए हैं। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि प्रदेश में राशन, बिजली महंगी कर दी गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि खुली चर्चा के लिए हम पूरी तरह से तैयार हैं। जब गलत कुछ किया ही नहीं तो डरने की क्या जरूरत है। हिमाचल में कोविड-19 को लेकर सबसे बेहतरीन काम हुआ है। सरकार ने विपक्ष के नियम 67 के काम रोको प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया। ऐसा पहली बार हुआ है जब प्रस्ताव को स्वीकार किया गया है।

नियम 67 पर सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि आज कोविड 19 का दौर है। सभी सदस्यों ने इस बारे में नोटिस दिए हैं। सरकार की ओर से इस बारे में वक्तव्य दिया जाना था। हमने सब विधायकों से चर्चा की। पहली बार ऐसा हो रहा है कि विपक्ष की ओर से नियम 67 में स्थगन प्रस्ताव दिया गया है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *