मुख्यमंत्री ने कुल्लू को दी करीब 12.50 करोड़ रुपये की विकासात्मक योजननाएं

मुख्यमंत्री ने कुल्लू को दी करीब 12.50 करोड़ रुपये की विकासात्मक परियोजनाएं

  • मुख्यमंत्री ने कुल्लू विधानसभा क्षेत्र में विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं के शिलान्यास व लोकार्पण किए

शिमला: मुख्यमंत्री ने 1.84 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 7वीं गृह रक्षा वाहिनी के कार्यालय भवन, 3.52 करोड़ की लागत से राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आइटीआई) शमशी में निर्मित शहरी आजीविका भवन और छात्रावास, मलाणा में 1.03 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित बहुद्देशीय भवन और अनुसूचित जाति विशेष घटक योजना के अन्तर्गत 1.24 करोड़ रुपये की लागत से सुम्मा में सरवरी खड्ड पर निर्मित पुल का उद्घाटन किया।

जय राम ठाकुर ने 1.27 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले राजकीय वरिष्ठ पाठशाला चन्सारी के भवन तथा कुल्लू में 3.52 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले महिला पुलिस थाने के भवन की आधारशिला रखी।

आइटीआई शमशी में लोगों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी ने हम सभी को सामाजिक दूरी के नियमों का सख्ती से पालन करने, फेस कवर और फेस मास्क का उपयोग करने के लिए मज़बूर कर दिया है। उन्होंने कहा कि कई दिनों के लाॅकडाउन के बावजूद प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखे पेट नहीं सोया है। उन्होंने कहा कि सभी ने पीएम केयर्स और सीएम कोविड फंड के लिए उदारतापूर्वक अंशदान किया है। निर्वाचित प्रतिनिधी भी प्रदेश में कोविड-19 महामारी से प्रभावशाली तरीके से लड़ने के लिए हर संभव अंशदान कर रहे हैं।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार ने बाहरी राज्यों में फंसे प्रदेश के लगभग 2.25 लाख लोगों को वापिस लाया है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस नेता इस मुद्दे पर भी राजनीति कर रहे हैं। इससे पूर्व कांग्रेस नेता आरोप लगा रही थी कि सरकार विभिन्न राज्यों में फंसे हिमाचलियों के प्रति चिन्तित नहीं है और अब जब लाखों लोगों को घर वापिस लाया गया है, वही नेता कह रहे हैं कि प्रदेश सरकार राज्य में कोरोना ला रही है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण प्रदेश को 30 हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। पर्यटन क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुआ है हालांकि प्रदेश सरकार ने इस क्षेत्र को कुछ राहत प्रदान की है लेकिन अभी भी बहुत कुछ करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि सीयूं हाथीथान में 9.50 करोड़ रुपये की लागत की जलापूर्ति योजना को शीघ्र पूरा कर लिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कोरोना योद्धाओं जैसे चिकित्सकों, पेरामेडिकल कर्मचारी, पुलिस तथा सफाई कर्मचारियों की इस कठिन समय में मूल्यवान सेवाओं और प्रयासों की सराहना की।

शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि लम्बे संघर्ष और श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान से आज अधिनियम 370 इतिहास बना है और जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बन गया है। उन्होंने कहा कि इसका श्रेय प्रधानमंत्री के सशक्त नेतृत्व को जाता है।

सांसद राम स्वरूप शर्मा ने कहा कि प्रदेश भाग्यशाली है इसे जय राम ठाकुर जैसे मुख्यमंत्री का नेतृत्व मिला है, जो समाज के सभी वर्गों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध हैं।

कुल्लू के विधायक सुन्दर सिंह ठाकुर ने मुख्यमंत्री से क्षेत्र के लिए और सिंचाई व पेयजलापूर्ति योजनाएं घोषित करने का आग्रह किया। उन्होंने पर्यटन क्षेत्र के लिए राहत पैकेज प्रदान करने का भी आग्रह किया जो कोरोना महामारी के कारण प्रभावित हुआ है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *