वीरभद्र सिंह के लंच डिप्लोमेसी में सियासी घटनाक्रम को लेकर चर्चा, कांग्रेस को एकजुट कर 2022 में सत्ता में लाने के लिए भी हुआ मंथन 

वीरभद्र सिंह के लंच डिप्लोमेसी में सियासी घटनाक्रम को लेकर चर्चा, कांग्रेस को एकजुट कर 2022 में सत्ता में लाने के लिए भी हुआ मंथन 

  • लंच डिप्लोमेसी में वीरभद्र सिंह ने सभी नेताओं को दिया आगे बढ़ने का मंत्र

शिमला:  हिमाचल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने शिमला स्थित निजी आवास हॉलीलॉज में आज कई नेताओं को लंच पर बुलाया था, लेकिन कौल सिंह ठाकुर, सुखविंद्र सिंह सुक्खू समेत चार पूर्व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष और कुछ पार्टी विधायकों समेत पार्टी के कई  नेता नहीं पहुंचे। हालांकि कुछ दिन पहले कौल सिंह ठाकुर के घर भी एक लंच डिप्लोमेसी हुई थी, जिसमें 7 नेताओं ने ही भाग लिया था और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर के खिलाफ हाईकमान को शिकायत भी की थी। लंच डिप्लोमेसी में शामिल सातों नेताओं ने वीरभद्र सिंह के लंच से किनारा किया है।

पूर्व मुख्यमंत्री के निमन्त्रण पर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर और पूर्व प्रदेशाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री विद्या स्टोक्स भी पहुंचे। इस लंच डिप्लोमेसी में कांग्रेस विधायकों, पूर्व विधायकों और पिछले चुनाव लड़े प्रत्याशियों को भी न्योता था।

कौल सिंह के घर पर हुए लंच में सुखविंदर सिंह सुक्खू, हर्ष वर्धन चौहान, रोहित ठाकुर, आशीष बुटेल, सोहन लाल ठाकुर और सुधीर शर्मा शामिल थे जो वीरभद्र सिंह के लंच में शामिल नहीं हुए। इसके अलावा आशा कुमारी, जीएस बाली, रामलाल ठाकुर भी वीरभद्र सिंह के लंच में शामिल नहीं हुए। हालांकि इसके क्या कारण रहे होंगे ये कहा नहीं जा सकता, लेकिन कहीं न कहीं इसके पीछे सियासी गुटबाजी भी देखी जा रही है। लंच में जहां प्रदेश के सियासी घटनाक्रम को लेकर चर्चा हुई तो वहीं कांग्रेस को एकजुट कर 2022 में सत्ता में लाने के लिए मंथन भी हुआ। वीरभद्र सिंह ने सभी नेताओं को आगे बढ़ने का मंत्र दिया।

वीरभद्र सिंह के लंच में नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, पूर्व मंत्री विद्या स्टोक्स, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर, विधायक राजेंद्र राणा, मोहन लाल बरागटा, कुलदीप पठानिया, पवन काजल, नंद लाल, जगत सिंह नेगी, हरीश जनारथा, ठाकुर सिंह भरमौरी, चन्द्र कुमार, विनय कुमार, केवल सिंह पठानिया, चेतराम मंडी, पूर्व विधायक टेक चंद डोगरा, प्रकाश चौधरी, जगजीवन पाल, संजय रत्न, गंगू राम मुसाफिर, ज्वालाजी से  संजय रतन, इंद्र दत लखनपाल, अजय बहादुर, सुंदर सिंह ठाकुर, अनिरुद्ध सिंह, विनय कुमार, हरीश जनारथा व आदित्य विक्रम और यशवंत छाजटा शामिल थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *