हिमाचल: किन्नौर जिले के निचार ब्लॉक की पंचायतों के एकीकृत जनजातीय विकास कार्यक्रमों के लिए एमओयू

हिमाचल: किन्नौर जिले के निचार ब्लॉक की पंचायतों के एकीकृत जनजातीय विकास कार्यक्रमों के लिए एमओयू

  • एमओयू के क्रियान्‍वयन का उद्देश्य तरंडा तथा बरी के 255 निर्धन जनजातीय किसानों को सततशील बागवानी आधारित रोजगार उपलब्ध करवाना

शिमला: हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले के निचार ब्लॉक की बरी तथा तरंडा पंचायतों के लिए एकीकृत जनजातीय विकास कार्यक्रम संयोजित करने के लिए एसजेवीएन फाउंडेशन, राष्ट्रीय कृषि एवं विकास ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) तथा हिल एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट प्रमोशन सोसाइटी (एचएआरपी) के बीच एसजेवीएन की निदेशक (कार्मिक), गीता कपूर की गरिमामय उपस्थिति में एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए।

1500 मेगावाट नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन के इर्द-गिर्द स्थित बरी तथा तरंडा पंचायतों के लिए इस एकीकृत जनजातीय विकास कार्यक्रम पर 6 वर्षों की अवधि के दौरान 537.71 लाख रुपए का खर्च आएगा। इस कार्यक्रम के लिए एसजेवीएन फाउंडेशन 222.33 लाख रुपए की वित्तीय मदद देगा जबकि नाबार्ड 165.72 लाख रुपए की वित्तीय मदद देगा तथा बाकी की राशि का अंशदान ग्रामीणों द्वारा श्रमदान/मैनपावर के रूप में दिया जाएगा । एचएआरपी 6 वर्षों की अवधि के लिए परियोजना क्रियान्‍वयन एजेंसी होगी।sjvn1

इस एमओयू के क्रियान्‍वयन का उद्देश्य तरंडा तथा बरी के 255 निर्धन जनजातीय किसानों को सततशील बागवानी आधारित रोजगार उपलब्ध करवाना है। इस कार्यक्रम का उद्देश्‍य हैः

• चयनित किसानों में टेक्निकल एवं प्रबंधकीय क्षमता का निर्माण करना।
• परियोजना के अंतर्गत स्थापित बगीचों के लिए सिंचाई उपलब्ध करवाना।
• ग्रामीण निर्धन लोगों के लिए परियोजना के दौरान और इसके उपरांत सततशील रोजगार के अवसर उपलब्‍ध करना।
• समुदाय विशेषता महिलाओं में स्वास्थ्य तथा स्वच्छता के विषय में जागरूकता उत्पन्न करना है।

एसजेवीएन अपने परिचालन के आसपास तथा इर्दगिर्द के क्षेत्रों में सीएसआर गतिविधियों को निष्पादित करता रहा है तथा स्टेकहोल्डर्स की जीवन की गुणवत्ता में सुधार में योगदान देने में अग्रणी रहा है ।

एसजेवीएन अपने सीएसआर तथा सततशील कार्यक्रमों का संचालन स्वास्थ्य एवं स्वच्छता ,शिक्षा एवं दक्षता विकास, सतत शील विकास, अवसंरचना एवं सामुदायिक विकास, प्राकृतिक आपदाओं के दौरान मदद, संस्कृति, विरासत एवं खेलों को बढ़ावा देने के 6 क्षेत्रों में करता है।

इस अवसर पर एसजेवीएन की ओर से मुख्‍य महाप्रबंधक (मा.सं.)  डी.पी. कौशल,वरिष्‍ठ अपर महाप्रबंधक (सीएसआर), अवधेश प्रसाद, वरिष्‍ठ प्रबंधक(मा.सं.), धीरज गुप्ता,उप प्रबंधक (मा.सं.),  हर्ष जैन तथा नाबार्ड की ओर से डॉ डी.के कपिला, मुख्‍य महाप्रबंधक, डॉ सुधांशु के. के. मिश्रा, महाप्रबंधक, डॉ. बी.आर. प्रेमी, उप महाप्रबंधक तथा  विजय सिंह, डीडीएम, किन्नौर,  स्नेह पांडे, सहायक प्रबंधक, अमित कुमार बरनवाल, सहायक प्रबंधक और एचएआरपी के अध्यक्ष, डॉ. आर.एस.रतन उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *