हिमाचल: कल नहीं खुलेंगे प्रदेश के होटल और धार्मिक स्थल

हिमाचल: कल नहीं खुलेंगे प्रदेश के होटल और धार्मिक स्थल

  • प्रदेश सरकार के दिशा-निर्देश के बाद ही खुलेंगे धार्मिक संस्थानः डीसी

 शिमला: लॉकडाउन के चलते जहाँ होटलों और धार्मिक स्थलों को पूरी तरह बंद रखा गया है वहीं अभी 8 जून से प्रदेश में होटल और धार्मिक स्थल नहीं खुलेंगे। होटल खोलने को लेकर होटल मालिकों ने इंकार कर दिया है। वहीं धार्मिक स्थलों को लेकर भी अभी कोई दिशा-निर्देश नहीं जारी किये हैं।

प्रदेश के होटल मालिको का कहना है कि कोरोना के चलते प्रदेश में पर्यटकों के आगमन न हो पाने से होटल मालिकों को कोई फायदा नहीं है कर्मचारियों को वेतन और बाकी का होटल खर्च निकलाना भी मुश्किल है ऐसे में होटल खोलने से कोई फायदा नहीं है। होटल यूनियनों ने अभी होटल खोलने में अपनी पूरी तरह सहमति नहीं जताई है।

वहीं अभी प्रदेश सरकार ने मंदिर तथा अन्य धार्मिक संस्थान आम जनता के लिए खोलने के लिए दिशा-निर्देश नहीं जारी किये हैं। जिसके चलते 8 जून से प्रदेश में धार्मिक स्थल भी फ़िलहाल नहीं खुलेंगे।

  •  प्रदेश सरकार के दिशा-निर्देश के बाद ही खुलेंगे धार्मिक संस्थानः डीसी
  • चिंतपूर्णी मंदिर सहित जिला ऊना के सभी धार्मिक संस्थान अभी नहीं खुलेंगे

ऊना: उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने कहा है कि कोरोना संकट के बीच बंद चिंतपूर्णी मंदिर सहित जिला के अन्य सभी धार्मिक संस्थान अभी नहीं खुलेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार से अभी तक मंदिर तथा अन्य धार्मिक संस्थान आम जनता के लिए खोलने के लिए दिशा-निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं। सरकार से आवश्यक निर्देश मिलने के उपरांत जिला प्रशासन ऊना पहले अपनी तैयारियां पूरी करेगी, उसके बाद ही धार्मिक संस्थान खोलने का निर्णय लिया जाएगा, ताकि लोगों के लिए उचित व्यवस्था बनाई जा सके।

डीसी ने कहा कि कोरोना वायरस एक नई तरह की चुनौती है तथा इस चुनौती से निपटने के लिए पहले धार्मिक संस्थानों में लोगों के जाने संबंधी प्रोटोकॉल तय किए जाएंगे, फिर उन दिशा-निर्देशों को पालन करते हुए श्रद्धालुओं को धार्मिक संस्थानों में प्रवेश होने की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन सभी की धार्मिक भावनाओं का सम्मान करता है लेकिन कोई भी मंदिर, मस्जिद तथा गुरूद्वारों सहित अन्य धार्मिक संस्थानों में जाने की जल्दबाजी न करे। जब तक जिला प्रशासन ऊना सभी धार्मिक संस्थानों को खोलने की अनुमति नहीं देता, तब तक मंदिरों में ना जाएं।

संदीप कुमार ने कहा कि यह निर्णय आम जनता के हित में है, ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण को आगे फैलने से रोका जा सके। उन्होंने कहा कि अभी तक जिला ऊना की समस्त जनता ने जिला प्रशासन के निर्णयों का सम्मान करते हुए अनुशासन में रहकर पालन किया है और आगे भी ऐसी ही उम्मीद है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *