प्रदेश सरकार राज्य की मुख्य नदियों के तटीकरण के लिए प्रयासरत: मुख्यमंत्री

प्रदेश सरकार राज्य की मुख्य नदियों के तटीकरण के लिए प्रयासरत: मुख्यमंत्री

 

  • मुख्यमंत्री ने आधुनिक मछुआरा आवासीय योजना का किया शुभारम्भ

 

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज मछुआरों के लिए आधुनिक मछुआरा आवासीय योजना का शुभारम्भ किया। योजना के अन्तर्गत 1 करोड़ रुपये की धनराशि व्यय कर 133 कमरों का निर्माण किया जाएगा तथा राज्य और केन्द्र सरकार व्यय का 50-50 प्रतिशत के अनुपात में वहन करेगी। उन्होंने मछुआरों के लिए ‘कोल्ड चेन योजना’ की घोषणा भी की। इस योजना के अन्तर्गत मछुआरा सहकारी समिति को इंसुलेटिड बक्से वितरित किए जाएंगे, जिसपर 72 लाख रुपये व्यय किए जाएंगे।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य की मुख्य नदियों के तटीकरण के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि ऊना जिला में स्वां नदी एवं इसकी सभी 73 सहायक नदियों के तटीकरण के अतिरिक्त शिमला जिले में पब्बर नदी का भी तटीकरण किया जा रहा है ताकि भूमि को कृषि योग्य बनाया जा सके। उन्होंने इंजीनियरों को नहरों के लिए कमांद क्षेत्र तैयार करने और सिंचाई जल को किसानों के खेतों तक पहुंचाना सुनिश्चित बनाने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हिमाचल प्रदेश प्रगति के पथ पर तीव्र गति से अग्रसर है और राज्य देश के अन्य पहाड़ी राज्यों के लिए आदर्श बनकर उभरा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के गठन के समय यहां केवल 228 किलोमीटर का सड़क मार्ग था, जबकि आज प्रदेश में लगभग 34 हजार किलोमीटर का सड़क नेटवर्क है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने विगत अढ़ाई वर्षों के कार्यकाल में 21 कालेज खोले हैं और इनमें से अधिकतर को सुदुरवर्ती व ग्रामीण क्षेत्रों में खोला गया है ताकि विद्यार्थियों को घरद्वार के समीप गुणात्मक उच्च शिक्षा उपलब्ध हो सके। उन्होंने लड़कियों को समाज का आधार स्तम्भ बताते हुए अभिभावकों से लड़कियों को बेहतर शिक्षा उपलब्ध करवाने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में तीन नए चिकित्सा महाविद्यालय खोल रही है, जिसके लिए प्रति कालेज 189 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री श्री प्रेम कुमार धूमल के गृह नगर हमीरपुर में भी एक चिकित्सा महाविद्यालय खोला जा रहा है, जहां श्री धूमल एक औषधालय तक नहीं खोल पाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के सभी भागों में स्वास्थ्य क्षेत्र में समान विकास सुनिश्चित बनाने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि हमीरपुर के अलावा नाहन और चम्बा में चिकित्सा महाविद्यालय खोले जा रहे हैं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *