भाजपा की दमनकारी नीतियों का डट कर किया जाएगा विरोध : राठौर

अगर कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी होती है तो हमारा 40 दिनों का लॉक डाउन पूरी तरह होगा असफल साबित : कुलदीप राठौर

  • प्रदेश में कोरोना माहमारी को लेकर टेस्टिंग किट्स भी पूरी तरह से उपलब्ध नही,ऐसे में हम यह कैसे दावा कर सकते है  प्रदेश पूरी तरह कोरोना मुक्त है : कुलदीप राठौर

शिमला: कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने प्रदेश में कोरोना के 2 नए मामले पाए जाने पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि बाहर से जितने लोग वापिस अपने प्रदेश आ रहें है उनकी न तो सही ढंग से स्किनिंग हो रही है और न ही कोई स्वास्थ्य जांच।उन्होंने कहा है कि अगर कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी होती है तो हमारा 40 दिनों का लॉक डाउन पूरी तरह असफल साबित होगा।
आज एक संबाददाता सम्मलेन को संबोधित करते हुए कुलदीप सिंह राठौर ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा कोरोना को लेकर प्रस्तुत आंकड़ों को पूरी तरह हास्यस्पद बताते हुए कहा जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री के समक्ष वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में 70 लाख,यानी पूरे प्रदेश के इस माहमारी को लेकर स्क्रीनिंग की बात कही थी। उन्होंने कहा कि केवल आशा वर्कर या आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा घरों में जाकर जानकारी जुटाने को अगर मुख्यमंत्री स्क्रीनिंग का नाम देते है तो यह बड़ा आश्चर्यजनक दावा है।उन्होंने कहा कि प्रदेश में इस माहमारी को लेकर टेस्टिंग किट्स भी पूरी तरह से उपलब्ध नही है,ऐसे में हम यह कैसे दावा कर सकते है कि प्रदेश पूरी तरह कोरोना मुक्त है।
राठौर ने कहा कि उनकी सूचना के अनुसार प्रदेश की 70 लाख की आबादी में से केवल 7 हजार लोगो के ही टेस्ट हुए है,जो आंकड़ों में 0.1प्रतिशत ही बनता है। ऐसे में मुख्यमंत्री गलत और झूठे आंकड़े दे रहे है।उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार बाहर से आने वाले सभी लोगों की टेस्टिंग व स्क्रीनिंग करने में पूरी तरह असफ़ल साबित हुई है।उन्हें डर है कि यह सक्रंमण कहीं प्रदेश को अपनी चपेट में न ले ले।

उन्होंने कहा कि जयराम अपनी पीठ खुद थपथपा रहें है जबकि प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं में कोरोना जैसी माहमारी से लड़ने के लिए बहुत बड़े आधारभूत ढांचे की आवश्यकता है।उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस इस माहमारी को लेकर कमियों को उजागर करती है तो मुख्यमंत्री इसे राजनीति की संज्ञा देते है।उन्होंने कहा कि मुख्य विपक्षी दल होने के नाते कांग्रेस की नैतिक जिम्मेदारी है कि वह लोगों को आ रही समस्याओं और सरकार की कमियों को प्रमुखता से उठाये।उन्होंने कहा कि अगर इसमें उन्हें कोई राजनीति नज़र आती है तो उन्हें अपनी आंखों का ईलाज करवा लेना चाहिए।
राठौर ने केंद्र सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा की देश मे जिस समय इस संक्रमण का अंदेशा आया था,कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री को सचेत किया था।उस समय प्रधानमंत्री नमस्ते ट्रम्प और मध्यप्रदेश में अपनी सरकार बनाने के तानेबाने में लगे हुए थे। उन्होंने कहा कि 23 मार्च को मध्यप्रदेश में भाजपा अपनी सरकार बनाती है और 24 मार्च की रात को देश मे लॉक डाउन की घोषणा की जाती है।यानी सब कुछ पूर्व निर्धारित कार्यक्रम।उन्होंने कहा कि देश के नागरिकों को अपने अपने घर जाने का भी मौका नही दिया गया।आज देश के लोग अपने अपने घरों में जाने के लिए धक्के खा रहे है।उन्होंने कहा कि कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने निर्णय लिया है कि पार्टी देश के उन सभी कामगरों को रेल किराया देगी, जो इस समय लॉक डाउन की वजह से अपने घर जाना चाहते हैं।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री विदेशों से 15 लाख एनआरआई को तो भारत लाने के लिए विशेष व्यवस्था कर सकते हैं पर भारत के अंदर रहने वाले गरीब और कामगारों को उनके घर नहीं भेज सकते।उन्होंने कहा कि विदेशों से आने वाले इन एनआरआई की कोई भी स्क्रीनिंग और कोरोना टेस्टिंग तक नही हुई, जबकि सब जानते हैं कि यह माहमारी विदेशों से ही भारत में आई।
राठौर ने कहा कि अभी हाल ही में एक अंतरराष्ट्रीय संस्था ने कुल 11 देशों में कोरोना माहमारी के बाद लॉक डाउन के दौरान कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी को लेकर एक सर्वेक्षण किया है जिसमें उन्होंने भारत को 11वें पायदान यानी अंत मे रखा है।उन्होंने इस पर अपनी चिंता जताते हुए कहा कि कांग्रेस इस माहमारी व देश के सामने आने वाली ज्वलंत समस्याओं को लेकर बहुत चिंतित है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *