हिमाचल: प्रदेश के छह जिलों में कोविड-19 का एक भी मामला नहीं आया है सामने

हिमाचल: प्रदेश के 6 जिलों में कोविड-19 का एक भी मामला नहीं आया है सामने

  • केंद्रीय स्वास्थ्य को मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के लिए उठाए जा रहे कदमों से करवाया अवगत
  • राज्य के 183 स्वास्थ्य संस्थानों में करीब 9200 क्वारन्टीन बिस्तरों की व्यवस्था
  • प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में पीपीई किट तथा मास्क उपलब्ध
  • मुख्यमंत्री ने किया आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए प्रदेश को अधिक वेंटिलेटर्ज प्रदान करने का आग्रह

शिमला:  केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन के साथ  मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक करते हुए उन्हें प्रदेश में कोरोना वायरस महामारी से प्रभावी रूप से निपटने के लिए उठाए जा रहे विभिन्न कदमों के बारे में अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के छह जिलों में कोविड-19 का एक भी मामला सामने नहीं आया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में अभी तक 8847 लोगों को निगरानी में रखा गया है, जिनमें से 5637 लोगों ने 28 दिन की अनिवार्य निगरानी अवधि को पूरा कर लिया है तथा 3210 व्यक्ति अभी भी निगरानी में है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गत वीरवार तक कोरोना संक्रमण के लिए 3994 लोगों की जांच की गई है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि अभी तक 40 सैंपल पॉजिटिव पाए गए हैं, जिनमें से 18 व्यक्ति नेगेटिव पाए जाने के बाद स्वस्थ होकर घर चले गए हैं। इसके अतिरिक्त चार लोग प्रदेश से बाहर उपचाराधीन हैं एवं एक व्यक्ति का मृत्यु हो चुकी है। उन्होंने कहा कि शेष 17 व्यक्ति प्रदेश के अस्पतालों में उपचाराधीन है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कर्फ्यू लगाया गया है, ताकि लोग अनावश्यक रूप से बाजारों में न जाएं। लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना वायरस के हॉटस्पॉट सील कर दिए गए हैं, ताकि संक्रमण आगे न फैल सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने राज्य के 183 स्वास्थ्य संस्थानों में लगभग 9200 क्वारन्टीन बिस्तरों की व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में पीपीई किट तथा मास्क उपलब्ध है। उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए प्रदेश को अधिक वेंटिलेटर्ज प्रदान करने का आग्रह किया।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में चार अस्पतालों में कोविड-19 के सैंपल की जांच की जा रही है, जिनमें आईजीएमसी शिमला, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद राजकीय मेडिकल कॉलेज टांडा, आईएचबीटी पालमपुर कांगड़ा तथा जिला सोलन के केंद्रीय अनुसंधान संस्थान कसौली शामिल है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने राज्य में कोविड-19 के लिए पांच अस्पतालों को अधिसूचित किया है, जिनमें 300 बिस्तरों की व्यवस्था है। उन्होंने कहा कि इन अस्पतालों में जिला मण्डी का श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय मेडिकल कॉलेज नेरचैक, जिला सोलन के काठा बद्दी का ईएसआई अस्पताल, जिला हमीरपुर के भोटा का चैरिटेबल अस्पताल, जिला सिरमौर के सराहां का नागरिक अस्पताल तथा जिला कांगड़ा के ज्वालामुखी का अग्रवाल अस्पताल शामिल है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में आरंभ एक्टिव केस फाइन्डिंग अभियान के तहत 70 लाख से अधिक लोगों को कवर किया गया है तथा इनमें से लगभग 10 हजार लोगों की जांच की जा रही है, जिनमें इन्फ्लुएंजा जैसी बीमारी (आईएलआई) के लक्षण पाए गए थे।

शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज तथा मुख्यमंत्री के राजनैतिक सलाहकार त्रिलोक जम्वाल भी इस बैठक में उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *