लोगों को अब अधिक सजग रहने की आवश्यकता : उपायुक्त शिमला

शिमला : चेरी के लिए करीब 6 लाख 50 हजार बक्सों व बादाम की पैकिंग मटिरियल के लिए एक लाख व खुमानी के लिए डेढ़ लाख बक्सों की व्यवस्था

शिमला:  जिला में तैयार चेरी, खुमानी व बादाम की फसलों की पैकिंग के लिए प्रशासन की ओर से पर्याप्त सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है।जिला दंडाधिकारी शिमला अमित कश्यप ने आज यहां जानकारी देते हुए बताया कि  चेरी के लिए लगभग 6 लाख 50 हजार बक्सों का तथा बादाम की पैकिंग मटिरियल के लिए एक लाख व खुमानी के लिए डेढ़ लाख बक्सों की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि जिला में आज छाती, श्वास व फेफड़ों के  रोग के लिए जिला प्रशासन द्वारा हेल्पलाइन आरम्भ की गई है।  

उन्होंने बताया कि आईजीएमसी में छाती, श्वास व फेफड़ों के रोग के विभाग के अध्यक्ष डॉ. मलय सरकार से प्रातः 11 से 1 बजे तक रोगी इस संबंध में परामर्श प्राप्त कर सकते हैं। 

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान लोगों में मानसिक तनाव न आए इसके लिए 18 प्रशिक्षित परामर्शदाताओं की सूची डीसी शिमला फेसबुक पेज पर डाली गई है, जिनमें उनके संपर्क नंबर भी शामिल हैं। 

उन्होंने बताया कि इस सेवा का न केवल जिला बल्कि अन्य जिलों व राज्यों से भी सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है, जिसकी लोगों ने काफी सराहना की। उन्होंने बताया कि मधुमेह, थायराइड के लिए भी हेल्पलाइन जिला प्रशासन द्वारा आरम्भ की गई है। हृदय विशेषज्ञ आईजीएमसी के नंबरों का भी उल्लेख हेल्पलाइन में किया गया है ताकि लोग उनसे संपर्क कर हृदय व अन्य स्वास्थ्य संबंधी जानकारी व सुविधा प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि यह सब सेवाएं निःशुल्क रहेगी।  

उन्होंने बताया कि जिला में स्टेशनरी की दुकानें खोलने के संबंध में बहुत से सुझाव मिले हैं, जिसके तहत विचार किया जा रहा है, जल्द इस पर कोई निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिला में फैडज पुल चैपाल और कुडु बैरियर को गाड़ियों के आवागमन के लिए सील कर दिया गया है जबकि घणाह्हटी में प्रदेश के अंदर से ही गाड़ियों का आवागमन होता है। 

उन्होंने बताया कि शोघी क्षेत्र से बाहरी राज्यों से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति या अन्य वाहनों के प्रवेश के दौरान वाहनों को सैनेटाइज किया जा रहा है और आने वाले लोगों की मेडिकल स्क्रीनिंग भी की जा रही है ताकि किसी प्रकार के संभावित या संदिग्ध कोविड-19 के व्यक्ति को शिमला जिला में प्रवेश से रोका जा सके। 

जिला दंडाधिकारी ने लाॅकडाउन के दौरान जिला वासियों द्वारा बढ़-चढ़कर किए सहयोग के लिए उनका आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि लोगों के परस्पर सहयोग से ही शिमला जिले में कोविड-19 का कोई मामला नहीं आया है। उन्होंने लोगों से सामाजिक दूरी बनाए रखने, घरों में रहने, निरंतर हाथ धोने तथा भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में न जाने की अपील की। 

उन्होंने कहा कि कर्फ्यू के दौरान बरती जाने वाली ढील के समय में भी लोग प्रयास करें की घर पर ही रहे, अवश्य खरीदारी करने के लिए ही केवल इस दौरान निकले और परस्पर डेढ़ मीटर की दूरी बनाए रखने के अनुशासन अपनाएं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  +  72  =  75