मुख्यमंत्री बोले : बाहरी राज्यों से वापिस आए हिमाचलियों को रखा जाएगा संस्थागत क्वारंटीन में 

देखें वीडियो कोरोना वायरस को लेकर प्रदेश की ताजा स्थिति पर क्या बोले सीएम..

  • कोविड-19 : आज 128 लोगों की जांच, 126 सैंपल नेगेटिव तथा 2 सैंपलों की रिपोर्ट आना अभी बाकी
  • अब तक 662 लोगों की की जा चुकी है जांच, 609 की रिपोर्ट नेगटिव और 27 की रिपोर्ट पॉजिटिव
  • मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को किसानों को सुविधा प्रदान करने के लिए उचित कदम उठाने के दिए निर्देश

शिमला: देश और प्रदेश में कोरोना वायरस के दृष्टिगत उत्पन्न स्थिति का जायजा लेने के लिए आज शिमला से मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने प्रदेश के सभी उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक की।

जय राम ठाकुर ने प्रदेश में दिल्ली की निजामुद्दीन तबलीगी जमात के कोरोना वायरस के लक्षणों वाले व्यक्तियों का पता लगाने पर विशेष बल दिया। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त इन जमातियों के नजदीकी लोगों का भी पता लगाया जाए, जिनके कारण देश तथा प्रदेश में कोरोना वायरस के मामले दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने लोगों की सुविधा के लिए खुले बाजारों में आवश्यक वस्तुओं की पर्याप्त उपलब्धता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि नागरिक आपूर्ति निगम के डिपो में बफर स्टाॅक सुनिश्चित करवाने के प्रयास भी किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि जमाखोरी और मुनाफाखोरी को रोकने तथा दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने पर बल दिया जाना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को अन्य राज्यों से आवश्यक वस्तुएं तथा अन्य सामग्री लाने वाले वाहनों और चालकों व परिचालकों को प्रदेश की सीमा पर सेनेटाइज करने के भी निर्देश दिए।

जय राम ठाकुर ने अधिकारियों को फसल कटाई का समय होने के दृष्टिगत कफ्र्यू के दौरान किसानों को सुविधा प्रदान करने के लिए उचित कदम उठाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक ऐसी प्रणाली बनाई जानी चाहिए, जिससे कि किसानों को समस्या न आए। उन्होंने कहा कि फसल कटाई के दौरान किसानों को सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए जागरूक किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार किसानों तथा बागवानों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने बागवानी विभाग को बागवानों को घरद्वार के समीप अथवा गांव के आधार पर कीटनाशक, खाद तथा पौधों के संरक्षण की अन्य सामग्री की आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में एक्टिव केस फाईंडिंग अभियान के तहत स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा घर-घर जाकर 50 लाख से अधिक व्यक्तियों की स्वास्थ्य जानकारी प्राप्त की जा चुकी है। उन्होंने अधिकारियों को इस अभियान के दलों को सुरक्षा उपकरण, मास्क तथा दस्ताने प्रदान करने के निर्देश दिए ताकि वे बिना किसी डर के अपना दायित्व प्रभावी रूप से निभा सकें। उन्होंने कोरोना वायरस महामारी के दृष्टिगत तैनात पुलिस कर्मियों तथा अन्य अधिकारियों तथा कर्मचारियों को सुरक्षा उपकरण प्रदान करने पर भी बल दिया।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस के दृष्टिगत 4855 व्यक्तियों को निगरानी में रखा गया है, जिसमें से 2387 व्यक्तियों ने 28 दिनों की निगरानी अवधि पूर्ण कर ली है। उन्होंने कहा कि आज कोविड-19 के लिए 128 व्यक्तियों की जांच की गई, जिसमें से 102 सैंपल नेगिटिव पाए गए तथा 26 सैंपलों की रिपोर्ट अभी बाकी है।

अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आर.डी. धीमान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना वायरस के लिए अभी तक 662 व्यक्तियों की जांच की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि 609 व्यक्तियों की रिपोर्ट नेगटिव पाई गई है तथा 27 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है, जिसमें से दो व्यक्तियों को नेगेटिव पाये जाने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त चार व्यक्ति प्रदेश से बाहर उपचाराधीन है तथा एक व्यक्ति की मृत्यु हो चुकी है। उन्होंने कहा कि शेष 20 व्यक्ति प्रदेश के अस्पतालों में उपचाराधीन है।

मुख्य सचिव अनिल खाची, पुलिस महानिदेशक एस.आर. मरडी, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह मनोज कुमार, प्रधान सचिव ओंकार चन्द शर्मा तथा मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव संजय कुंडू, सचिव रजनीश तथा सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के निदेशक हरबंस सिंह ब्रसकोन भी बैठक में उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *