पौंग जलाशय से मिला 2800 मछुआरों को रोजगार, वर्ष 2019-20 में 266 रूपये प्रति किलोग्राम की दर से हुई मछली की बिक्री

सभी सभाओं में एक समान होंगे मछली बिक्री के रेट

शिमला : प्रदेश के जलाश्यों में मछली के बिक्री रेट ई-टेंडर प्रक्रिया के माध्यम से सभी सभाओं में एक समान होंगे ताकि समस्त मछुआरों को लाभ मिल सके और उनकी आमदनी में बढ़ोतरी हो। मत्स्य पालन विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां कहा कि इससे पहले खुली नीलामी अथवा सहमति प्रक्रिया द्वारा सभी मछुआरा सभाओं में मछली रेट अलग-अलग होते थे।

प्रवक्ता ने कहा कि ई-टेंडर प्रक्रिया के बाद भी सभाओं की कार्यप्रणाली व मछली पकड़ने की प्रक्रिया यथावत् रहेगी, जिससे मछुआरों के हित सुरक्षित रहेंगे। ई-प्रक्रिया में 50 प्रतिशत मछली स्थानीय बिक्री के लिए उपलब्ध रहेगी जिससे वर्तमान ठेकेदारों को मछली व्यवसाय में कोई विपरीत असर नहीं पड़ेगा।

इस विषय पर समस्त मछुआरा सहकारी सभाओं के साथ शीघ्र बैठक करके इस प्रक्रिया द्वारा होने वाले लाभों बारे चर्चा की जायेगी तथा इस बारे में सभाओं की सहमति प्राप्त करने के उपरांत ही अगली कार्यवाही की जायेगी। 50 प्रतिशत मछली की ब्रांडिग संबंधित ठेकेदार द्वारा किए जाने का भी प्रस्ताव है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *