शिमला: मानव श्रृंखला बनाकर दिया बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

शिमला: मानव श्रृंखला बनाकर दिया बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

रीना ठाकुर/शिमला: समावेशी समाज के निर्माण में महिलाओं की भूमिका महत्वपूर्ण है व बच्चों का शारीरिक एवं बौद्धिक विकास आवश्यक है। शिक्षा, विधि एवं संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने आज ऐतिहासिक रिज मैदान पर राष्ट्रीय बालिका शिशु दिवस के अवसर पर जिला प्रशासन एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आयोजित ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ कार्यक्रम के अंतर्गत मानव श्रृंखला व लोगो निर्माण के कार्यक्रम के उपरांत अपने संबोधन में व्यक्त किए।

उन्होंने कहा कि सामाजिक गतिविधियों एवं विकास में महिलाओं की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने तथा उन्हें सक्ष्म व सशक्त बनाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा अनेक प्रभावशाली योजनाएं आरम्भ की गई है। उन्होंने कहा कि हमें समाज में महिलाओं के प्रति जो विषमताएं हैं, उन्हें मिटा कर समान भाव से आगे बढ़ना होगा।

उन्होंने बताया कि आज के इस आयोजन में विभिन्न महिला मण्डलों, आईटीआई व एनएसएस की लगभग 1500 महिलाओं ने मानव श्रृंखला का निर्माण किया जबकि ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ के लागो निर्माण में जिला शिमला के 11 बाल विकास परियोजनाओं के लगभग 500 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर शुक्रवार को शिमला के रिज मैदान में जिलास्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में शिमला जिला की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, महिला मंडल सदस्यों, एनएसएस स्वयंसेवियों और आइटीआइ शिमला की छात्राओं ने भी हिस्सा लिया। रिज मैदान में 1500 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और महिला मंडल सदस्यों ने मानव श्रृंखला बनाकर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश दिया। उन्होंने आज ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ के संबंध में जागरूकता की शपथ भी दिलवाई।

उन्होंने गेयटी थियेटर में आयोजित कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा कि महिलाओं द्वारा अनेक किर्तिमान स्थापित किए गए हैं व महिलाएं प्रत्येक क्षेत्र में पुरूषों से आगे निकलकर कार्य कर रही है।

उन्होंने आज विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया। इसके अतिरिक्त जिला की दसवीं व बारहवीं कक्षा की छात्राओं द्वारा शैक्षणिक क्षेत्र में सराहनीय प्रदर्शन करने पर 20 छात्राओं को 5 हजार रुपये प्रति छात्रा व प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया।

उपायुक्त शिमला अमित कश्यप ने अपने संबोधन में ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ के तहत जिला में किए गए कार्यों का उल्लेख किया, जिसके तहत राष्ट्रीय स्तर पर जिला को श्रेष्ठतम आंका गया है। 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *