देखें वीडियो: प्रदेश में पहली जून से शुरू हो रही बस सेवा को लेकर क्या बोले परिवहन मंत्री

सीएए के बहाने कांग्रेस का राष्ट्रविरोधी चरित्र बेनकाब हुआ : गोविन्द सिंह ठाकुर

शिमला: नागरिकता अधिनियम (संशोधन) पर कांग्रेस एवं अन्य राजनितिक दलों द्वारा किये जा रहे विरोध पर वन, परिवहन, युवा सेवाएं एवं खेल मन्त्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि इस अधिनियम के बहाने कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों का असली चेहरा देश की जनता के सामने बेनकाब हो गया है। वन मन्त्री ने कहा कि धार्मिक प्रताड़ना के शिकार विदेशों में रह रहे हिन्दू अल्पसंख्यकों को भारत में नागरिकता प्रदान करने के लिए प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी जी राहत प्रदान की है जिसकी प्रशंसा देश भर के आम नागरिक कर रहे हैं लेकिन संकीर्ण वोट बैंक की राजनीती करने में माहिर कांग्रेस ने संसद द्वारा पारित इस अधिनियम के खिलाफ देश में दुष्प्रचार कर नैतिकता की सारी सीमाओं का अतिक्रमण कर न केवल देश की सम्पति को दंगाइयों को प्रोत्साहित कर नुकसान पहुंचाया है अपितु देश के राष्ट्रिय चरित्र को भी अपूर्ण क्षति पहुंचाई है।

गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस जो अपने आप को एक क्लासिक पार्टी समझती है, अधिनियम को बिना पढ़े ही विरोध कर रही है। वन मन्त्री ने कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रिय प्रवक्ता पवन खेडा के उस ब्यान पर सख्त नाराजगी व्यक्त की है जिसमें उन्होंने कहा था कि देश प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृह मन्त्री अमित शाह की सनक से नहीं, संविधान से चलेगा। इस पर गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि देश के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी जी को देश की जनता ने अपार बहुमत से चुना है तथा सरकार जनता द्वारा दिए हुए जनादेश के अनुरूप  कार्य कर रही है जबकि कांग्रेस को अपना इतिहास याद करना चाहिए कि किस प्रकार पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों ने संविधान की धज्जियां उड़ाते हुए देशवासियों के मौलिक अधिकारों का हनन किया था।

गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि मोदी सरकार के कार्यों की आज दुनिया भर में प्रशंसा हो रही है जिसका उदाहरण पिछले कल दुनिया भर से नागरिकता अधिनियम (संशोधन) को ट्विटर पर मिलने वाला समर्थन है। गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस द्वारा फैलाए जा रहे दुष्प्रचार के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी देश भर में जनजागरण अभियान चला रही है जिससे लोगों को कानून की सही जानकारी प्रदान की जा रही है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *