शिमला डीसी ने की निजी स्कूल प्रतिनिधियों के साथ स्कूल बसों की खरीद को लेकर बैठक

शिमला डीसी ने की निजी स्कूल प्रतिनिधियों के साथ स्कूल बसों की खरीद को लेकर बैठक

  • अधिकतर स्कूलों ने भेजे अपनी बसों को खरीदने एवं किराये पर लेने के प्रस्ताव

रीना ठाकुर/शिमला: उपायुक्त शिमला अमित कश्यप की अध्यक्षता में आज यहां निजी स्कूल प्रतिनिधियों के साथ स्कूल बसों की खरीद के संबंध में बैठक का आयोजन किया गया। उन्होंने बताया कि निजी स्कूल बसों की समस्या में सुधार किया गया है तथा आने वाले समय में इसे पूरी तरह से खत्म कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अधिकतर स्कूलों द्वारा अपनी बसों को खरीदने एवं किराये पर लेने का प्रस्ताव भेज दिया गया है, जिससे एचआरटीसी को अपनी बसें वापिस मिल जाएगी।

उन्होंने बताया कि स्कूल द्वारा किराए पर ली जाने वाली टैक्सी एवं बसों की दरों की समस्या को दूर करने के लिए क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी शिमला को टैक्सी संचालकों के साथ बैठक कर समाधान निकालने के निर्देश दिए ताकि बसों अथवा टैक्सी को स्कूल प्रबंधन द्वारा किराए पर लिया जा सके।

उन्होंने बताया कि टैक्सी संचालकों द्वारा खरीदी गई बसों की पार्किंग समस्या को दूर करने के लिए नगर निगम शिमला टूटीकंडी बाईपास पार्किंग में बसों को खड़ा करने की अनुमति प्रदान करे। उन्होंने सभी स्कूलों से आए प्रतिनिधियों को आदेश देते हुए बताया कि यदि कोई स्कूल अपनी बसें खरीद करता है, तो वह पार्किंग का विशेष ध्यान रखे ताकि यातायात में बाधा न पहुंचे।

उन्होंने सभी स्कूलों से आए प्रतिनिधियों को कहा कि अपने-अपने स्कूल में एनसीसी को शुरू करवाए एवं सभी सरकारी कार्यक्रमों के सांस्कृतिक गतिविधियों में छात्रों की भागीदारी सुनिश्चित करें ताकि बच्चों का सम्पूर्ण विकास हो सके।

उन्होंने 15 नवम्बर से 15 दिसम्बर, 2019 तक चल रहे विशेष कार्यक्रम मादक द्रव्य विरोधी माह के बारे में स्कूलों से आए प्रतिनिधियों से चर्चा की। उन्होंने बताया कि फरवरी एवं मार्च, 2020 में शुरू होने वाले स्कूलों के नए सत्र में अभिभावकों की बैठक सुनिश्चित करे, जिसमें उन्हें नशे के दुष्परिणामों के बारे में अवगत करवाया जाए ताकि बच्चों को नशे से दूर रखा जा सके।

उन्होंने स्कूलों से आए प्रतिनिधियों तथा पुलिस विभाग को कहा कि स्कूल से आते-जाते हुए छात्रों का विशेष ध्यान रखा जाए ताकि कोई भी बच्चा नशे में सम्मिलित न हो। उन्होंने पुलिस विभाग को आदेश देते हुए कहा कि स्कूलों के आस-पास बिक रहे नशीले पदार्थों की बिक्री तथा जहां पर नशीले पदार्थों का उपयोग किया जाता है, उचित समयावधि पर जांच की जाए।

 उन्होंने बताया कि प्रदेश स्तर पर विशेष कार्यक्रम द्रव्य विरोधी माह में स्कूलों की परीक्षा के कारण कम संलिप्तता हुई है, जिसके चलते नए स्कूल सत्र के उपरांत अप्रैल माह में जिला स्तर पर नशे से दूर रहने के लिए विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, जिसमें पार्षद एवं अन्य अधिकारीगण द्वारा स्कूलों में जाकर नशे के खिलाफ जागरूक किया जाएगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *