हिमाचल विधानसभा शीतसत्र शुरू : इन्वेस्टर मीट को लेकर गर्माया तपोवन

हिमाचल विधानसभा शीतसत्र शुरू : इन्वेस्टर मीट को लेकर गर्माया तपोवन (वीडियो)

    • अग्निहोत्री बोले: इन्वेस्टर मीट इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला
    • इन्वेस्टर मीट में किए खर्च पर पूरी तरह पारदर्शिता बरती गई : मुख्यमंत्री

>
धर्मशाला: हिमाचल विधानसभा के शीत सत्र में सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले ही इन्वेस्टर मीट पर सदन गर्मा गया। मुकेश अग्निहोत्री ने इन्वेस्टर मीट को इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला बताया। सदन में पक्ष और विपक्ष के बीच तीखी नोंकझोंक हुई। अग्निहोत्री ने इन्वेस्टर मीट में सरकार पर बड़े घोटाले का आरोप लगाते हुए स्थगन प्रस्ताव पर चर्चा मांगी। चर्चा न होने से विपक्ष ने सदन में कहा कि अफसरों ने इन्वेस्टर मीट के रूप में साजिश रची है। मुकेश अग्निहोत्री ने कहा इन्वेस्टर मीट भाजपा की रैली थी।

विपक्ष के वॉकआउट के बाद सदन में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि सोमवार को सत्र का पहला दिन है। बहुत से महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा होने थी, मगर ऐसा नहीं हो पाया। इन्वेस्टर मीट में किए खर्च पर पूरी तरह पारदर्शिता बरती गई है। सरकार इस पर चर्चा के लिए तैयार है।

इससे पहले दोपहर को करीब बारह बजे सदन के बाहर हंगामा हो गया था। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री संसदीय कार्य मंत्री के साथ बैठक करने पहुंचे थे। इस दौरान मुख्य गेट पर सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें रोक लिया। इस व्यवहार से कांग्रेस विधायकों ने नारेबाजी की और नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री गेट के बाहर धरने पर बैठ गए। बाद में सीएम जयराम ठाकुर के मनाने पर मुकेश माने और सदन में गए। विधानसभा अध्यक्ष राजीव बिंदल ने पुलिस के आला अधिकारियों को तलब किया। वहीं, अब तमाम विधायकों को मुख्य गेट से एंट्री मान्य कर दी गई।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *