सोलन: होमगॉर्ड जवान ने अपनी पत्नी पर देर रात दाग दी गोली

आईटीबीपी जवानों के बीच गोलीबारी, हिमाचल के हेड कांस्टेबल समेत छह जवानों की मौत

  • तीन घायल

हिमाचल: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले में आईटीबीपी में जवानों के बीच हुई गोलीबारी में हिमाचल के जवान की भी मौत हो गई। बरठीं क्षेत्र से छत-संडियार गांव के हेड कांस्टेबल महेंद्र सिंह उस वक्त अपनी जान से हाथ धो बैठे जब छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले के धौड़ाई पुलिस थाना क्षेत्र के तहत कड़ेनार गांव में स्थित आईटीबीपी की 45वीं बटालियन के शिविर में बुधवार को एक जवान ने आपसी विवाद में गोलियां बरसाना शुरू कीं। मृतक जवान अपने पीछे दो बेटों के साथ पत्नी व माता-पिता को छोड़ गया।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले में भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के एक जवान ने गोलीबारी की जिसमें कुल छह जवानों की मौत हो गई तथा तीन अन्य घायल हो गए। इसमें हमला करने वाला जवान भी शामिल है। हालांकि पुलिस अधिकारियों ने कहा कि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि हमलावर जवान ने आत्महत्या की या जवाबी कार्रवाई में उसकी मौत हुई है। बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज. पी ने बताया कि जिले के धौड़ाई पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत कड़ेनार गांव में स्थित आईटीबीपी की 45वीं बटालियन के शिविर में जवान मसुदुल रहमान ने अचानक गोलीबारी शुरू कर दी। इस घटना में चार जवानों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई तथा तीन अन्य जवान घायल हो गए। सुंदराज ने बताया कि घटना में रहमान की भी मौत हो गई तथा बाद में एक घायल जवान ने दम तोड़ दिया। उन्होंने बताया कि इस घटना में हिमाचल प्रदेश निवासी प्रधान आरक्षक महेंद्र सिंह, पंजाब निवासी प्रधान आरक्षक दलजीत सिंह, पश्चिम बंगाल निवासी आरक्षक सुरजीत सरकार और आरक्षक बिश्वरूप महतो और केरल निवासी आरक्षक बीजीश की मौत हो गई जबकि केरल निवासी एस बी उल्लास और राजस्थान निवासी सीताराम दून घायल हुए हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि अभी तक यह जानकारी नहीं मिली है कि रहमान ने खुद को गोली मारी या उसके साथियों ने जवाबी कार्रवाई में उसे मार गिराया । इस घटना में मारे गए जवानों की राइफल की जांच के बाद ही जानकारी मिल सकेगी।

छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के कैंप में सनसनीखेज घटना से हर कोई सन्न है। सूत्रों की मानें तो छुट्टियों को लेकर विवाद के बाद यह होश उड़ा देने वाली घटना घटी।

वहीं इस घटना में हिमाचल के महेंद्र सिंह निवासी संडियार डाकघर छत तहसील घुमारवीं जिला बिलासपुर की भी जान चली गई। अभी तक जवान का शव बिलासपुर नहीं पहुंचा है। शव बिलासपुर पहुंचने के बाद सैन्य सम्मान के साथ जवान को अंतिम विदाई दी जाएगी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *