हिमाचल: 15 नवंबर को 6 जिलों में येलो अलर्ट, रोहतांग में भारी बर्फबारी

हिमाचल शीतलहर की चपेट में, कहीं रिमझिम बारिश तो कहीं पहाड़ों ने ओढ़ी बर्फ की सफेद चादर

शिमला: प्रदेश में कुछ स्थानों में बर्फबारी और बारिश होने से ठंड काफी बढ़ गयी है प्रदेश शीत लहर की चपेट में है। लोग ठंड से ठिठुरने को मजबूर हो गए हैं। मौसम विभाग द्वारा 6 से 8 नवंबर तक पश्चिम विक्षोभ के होने से बारिश और बर्फबारी की चेतावनी जारी की गई है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया  कि बीते 24 घंटों में सबसे ज्यादा बारिश मंडी जिला के कोठी क्षेत्र में 11 मिलीमीटर दर्ज की गई है। जबकि चम्बा, कुल्लु, लाहौल स्पीति और किन्नौर के ऊपरी इलाकों में हल्की बर्फबारी हुई है। आगामी 24 घंटों में प्रदेश के कुछ इलाकों में भारी बारिश और ऊंचाई वाले इलाकों में हल्की बर्फबारी की संभावना जताई गई है।

रोहतांग दर्रा और लाहौल घाटी में बर्फबारी हुई है। ताजा बर्फबारी से मनाली-लेह मार्ग फिर बंद हो गया है। जबकि जलोड़ी दर्रा में सर्दी का पहला हिमपात होने से औट-आनी-सैंज हाइवे-305 यातायात के लिए अवरूद्ध हो गया है। रोहतांग दर्रा के बंद होने से घाटी में कई वाहन फंस गए है। ऐसे में अब घाटी और लाहौल के कोकसर में फंसे लोगों को रोहतांग टनल से होकर बाहर निकलने की उम्मीद है।पहाड़ों में हुई ताजा बर्फबारी से जिला कुल्लू और लाहौल-स्पीति में कड़ाके की ठंड पड़ गई है। घाटी में ताजा बर्फबारी से पर्यटन कारोबारी गदगद हो गए हैं। मौसम को देखते हुए कुल्लू और लाहौल-स्पीति प्रशासन ने अलर्ट जारी करते हुए पर्यटकों व आम लोगों को संवेदनशील इलाकों की ओर आवाजाही न करने की हिदायत दी है। जानकारी के अनुसार रोहतांग में 45 बारालाचा में 60, कुंजुम दर्रा में 50, कोकसर में 15, मढ़ी में 20 और जलोड़ी दर्रा में 10 सेंटीमीटर ताजा बर्फबारी हुई है।मंडी के शैटाधार और शिकारी देवी की चोटियों में सीजन की पहली बर्फबारी हुई है। शिकारी देवी में तीन इंच और शैटाधार में दो इंच हिमपात हुआ है।हिमाचल में ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी और मैदानी क्षेत्रों में बारिश के चलते गुरुवार को प्रदेश में 30 सड़कों पर यातायात प्रभावित रहा। इन सड़कों पर मलबा गिरने से परिवहन निगम के 55 रूट प्रभावित हुए हैं। दोपहर बाद कुछ सड़कों को यातायात के लिए खोल दिया गया। इधर, परिवहन निगम ने चालकों को बर्फीले इलाकों में बस चलाते वक्त जोखिम न लेने के निर्देश दिए हैं। भारी बर्फबारी से रोहतांग दर्रा फिर बंद हो गया है। हिमाचल में मौसम खराब के चलते खड़ापत्थर, नारकंडा, बल्देयां से तत्तापानी जाने वाली सड़कों में जगह-जगह पहाड़ियों से पत्थर गिरते रहे। दर्जनों छोटे- बड़े वाहन घंटों तक जाम में फंसे रहे। लोक निर्माण विभाग के इंजीनियर इन चीफ आरके वर्मा ने कहा कि बारिश और बर्फबारी से निपटने के लिए फील्ड अफसरों को तैयारियां करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं प्रदेश में 9 नवंबर से मौसम के साफ रहने की संभावना जताई गई है।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *