प्रदेश में बढ़ते नशे के चलन को लेकर जिला परिषद सदस्यों ने जताई चिंता

प्रदेश में बढ़ते नशे के चलन को लेकर जिला परिषद सदस्यों ने जताई चिंता

  • बैठक में जिला में नई खुलने वाली सड़कों और स्वास्थ्य सुविधाओं को खोलने पर भी हुई चर्चा

शिमला: प्रदेश में बढ़ते नशे की प्रवृत्ति को लेकर जिला परिषद सदस्यों ने चिंता जताई है। जिला शिमला में बढ़ते नशे के कारोबार को न रोक पाने पर जिला परिषद सदस्यों ने पुलिस विभाग पर नाकामी का आरोप लगाया है। जिला परिषद की मासिक बैठक में सदस्य नीलम सरैइक ने कहा जिला शिमला आए दिनों नशे के मामले बढ़ते जा रहे हैं और आए दिनों जिला का कोई न कोई युवा नशे के चंगुल में फंसता जा रहा है ।जिसको रोक पाने में जिला शिमला की पुलिस पूरी तरह से नाकाम रही है। उन्होंने कहा की पुलिस विभाग नशे के कारोबार को रोकने के लिए जिला में अभी तक किसी तरह की कमेटियों का गठन नहीं कर पाई है जो पुलिस विभाग की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान उठाता है। उन्होंने कहा कि नशे में संलिप्त युवाओं के लिए जिला में नशा निवारण केंद्र भी नहीं खुल पाए हैं। उन्होंने सभी विभागों से इन सभी कार्यो को जल्द पूरा करने की मांग की है। वहीं जिला परिषद अध्यक्षा धर्मिला हरनोट ने कहा कि जिला में नशे को रोकने के लिए जिला प्रशासन 15 नवंबर से नशा रोको अभियान चला रहा है। इसके लिए सभी विभागों को जिम्मेदारियां तय की जाएगी साथ ही नशा निवारण कमेटियों का गठन किया जाएगा । इसके अलावा जिला में नशा निवारण केंद्र भी खोले जाएंगे। उन्होंने कहा कि बैठक में करीब 170 मामलों पर चर्चा की गई है जिसमें जिला में नई सड़कें खोलना , बदहाल सड़कों की मरम्मत करने और नदी किनारे बसे लोगों को हटाने पर चर्चा हुई इसके अलावा शिमला के लोहाररब में खुलने वाली शूटिंग रेंज को जल्द खोलने के निर्देश दिए ताकि जिला में छिपी प्रतिभा को मौका मिल सके।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *