प्रदेश सरकार घाटी के सभी गांवों को सड़क नेटवर्क से जोड़ने के लिए प्रयासरत: मुख्यमंत्री

प्रदेश सरकार घाटी के सभी गांवों को सड़क नेटवर्क से जोड़ने के लिए प्रयासरत: मुख्यमंत्री

 

  • लाहौल-स्पीति तेजी से प्रगति के पथ पर अग्रसर
  • भूमिहीनों को नौतोड़ देने की घोषणा

    मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह काजा में जनसमूह को सम्बोधित करते हुए

    मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह काजा में जनसमूह को सम्बोधित करते हुए

शिमला: मुख्यमंत्री ने वीरभद्र सिंह ने कहा कि भूमिहीनों तथा कम भूमि के मालीकाना हक वाले लोगों को नौतोड़ भूमि दी जाएगी। उन्होंने प्रशासन को भूमिहीनों को प्राथमिकता पर नौतोड़ भूमि उपलब्ध करवाने के साथ पानी और बिजली जैसी अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री आज काजा में जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि कीर नाला पर शीघ्र ही पुल बना लिया जाएगा और पुल के दोनों ओर दो किलोमीटर सड़क का कार्य शीघ्र पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह पुल गत वर्ष बाढ़ में बह गया था और इस तरह के मामलों पर राजनीति करना प्रदेश हित में नहीं है। उन्होंने कहा कि विकास एक सतत प्रक्रिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार प्रदेशवासियों की मांगों के प्रति हमेशा उदार रही है। उन्होंने कहा कि आज लाहौल-स्पीति तेजी से प्रगति के पथ पर अग्रसर है तथा प्रदेश सरकार घाटी के सभी गांवों को सड़क नेटवर्क से जोड़ने के लिए प्रयासरत है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्पीति क्षेत्र सौर ऊर्जा के माध्यम से विद्युत उत्पादन के लिए सबसे उपयुक्त है और आज शिलान्यासित परियोजना प्रदेश में अपनी तरह की पहली परियोजना है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में इस तरह की और अधिक सौर एवं पवन बिजली परियोजनाएं निर्मित की जाएंगी। उन्होंने क्षेत्रवासियों से ऐसी असामाजिक ताकतों से सावधान रहने का आह्वान किया जो लोगों को बांटने के प्रयासों में लगे हैं और राष्ट्र विरोधी राजनीति कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि स्पीति को किन्नौर जिला से जोड़ने वाले मुध-भाबा सड़क के निर्माण के लिए वन स्वीकृति का मामला भारत सरकार के साथ उठाया गया है और इसके लिए शीघ्र ही स्वीकृति प्राप्त हो जाएगी।

मुख्यमंत्री ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र काजा को स्तरोन्नत कर मौजुदा 20 बिस्तरों वाले अस्पताल से 50 बिस्तरों का अस्पताल बनाने की घोषणा की। उन्होंने आश्वासन दिया कि घाटी में सड़कों का कार्य प्राथमिकता पर पूरा किया जाएगा और इसके लिए पर्याप्त मात्रा में धन उपलब्ध करवाया जाएगा। इन सड़कों में लोसर से क्यूमो, रंगरीक से क्वांग, काजा से लांग्चा और शिथलिंग-माने-सिलुक सड़कें शामिल हैं।मुख्यमंत्री ने कहा कि घाटी में दैनिक भोगियों को नियमित करने के संदर्भ में डाटा तैयार किया जा रहा है और इस संदर्भ में शीघ्र ही निर्णय लिया जाएगा।

वीरभद्र सिंह ने रॉंग-टॉंग में 32 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले सौर एवं पवन ऊर्जा प्लांट की अधारशिला रखी। उन्होंने रॉंग-टॉंग में 1.24 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान भवन का भी शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान काजा में शीघ्र इलैक्ट्रीशियन ट्रेड शुरू किया जाएगा। इसके उपरांत वे ‘धनकर गोंपा’ गए और 50 लाख रुपये की लागत से निर्मित ‘धर्मोपदेश कक्ष’ का उद्घाटन किया। इसके उपरांत, मुख्यमंत्री ने देर सांय ताबो में जन समस्याएं भी सुनी।

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति एवं जनजाति के आयोग के उपाध्यक्ष रवि ठाकुर ने रॉंग-टॉंग में 2.5 मेगावाट की सौर एवं पवन ऊर्जा प्लांट के शिलान्यास के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने क्षेत्र की विकासात्मक गतिविधियों का विस्तृत उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि कीर नाला पर पुल का निर्माण एवं वैकल्पिक मार्ग के निर्माण का कार्य प्रगति पर है। उन्होंने क्षेत्र की मांगे मुख्यमंत्री के समक्ष रखीं और क्षेत्र में बिजली की समस्या के समाधान के आग्रह के अतिरिक्त काजा अस्पताल में स्त्री रोग विशेषज्ञ के पद को भरने का आग्रह किया। उन्होंने मुध-भाबा वाया काफनु सड़क जो किन्नौर जिले की ऊईन घाटी को जोड़ती है के शीघ्र निर्माण का भी आग्रह किया।

वूल फेडरेशन के अध्यक्ष रघुवीर ठाकुर ने क्षेत्र में हुए विकास का श्रेय मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकारों को दिया। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को पूर्व में नौतोड़ भूमि दी गई थी, उन्हें भी काजा के आसपास गृह निर्माण की अनुमति दी जानी चाहिए। पूर्व विधायक फुंगचुक राय, जिला कांग्रेस अध्यक्ष रत्न बोध, जनजातीय सलाहकार समिति के सदस्य सोहन सिंह, गाटु अंगमो, दोरजे चापाल और अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी सुनील कुमार शर्मा भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *