...जब विधायक स्वयं अपने वेतन-भत्ते तय करेंगे तो अलोचना स्वाभाविक है : प्रो. धूमल

…जब विधायक स्वयं अपने वेतन-भत्ते तय करेंगे तो अलोचना स्वाभाविक है : प्रो. धूमल

हमीरपुर : पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने जयराम ठाकुर सरकार द्वारा माननीयों के वेतन-भत्तों को बढ़ाने के संदर्भ में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि जिस तरह सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों के वेतन-भत्ते तय करने के लिए पे-कमीशन होता है, वैसे ही माननीयों के वेतन-भतों का यह अधिकार पे-कमीशन को दिया जाना चाहिए। पूर्व सीएम ने यहां तक कहा कि जब स्वयं विधायक अपने वेतन-भत्ते तय करेंगे तो अलोचना स्वाभाविक है। जहां तक ध्यान में केंद्र में संसद ने प्रस्ताव पारित किया है कि वेतन आयोग ही उनके वेतन-भत्ते तय करेगा।

धूमल ने कहा कि वर्तमान में जब हम आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं। इस तरह की बातों से बचना चाहिए। ऐसे में यह भत्ते नहीं बढ़ाए जाते तो ज्यादा बेहतर होता। धूमल ने कहा कि मेरी जानकारी के अनुसार कोई विदेश जाता है तो उसको बढ़ा हुआ यात्रा भत्ता मिलेगा। लेकिन लोगों में गलत धारणा आ गई है कि माननीयों ने वेतन, भत्ते, पेंशन और पता नहीं क्या-क्या बढ़ा लिया है। सरकार को जनभावनाओं से अवगत रहना चाहिए। लोकराज लोकलाज से ही चलता है। उन्होंने विश्वास जताया कि सरकार सही स्थिति सबके सामने लाएगी। बता दें कि मानसून सत्र में जयराम सरकार ने विधायकों व मंत्रियों के भत्ते बढ़ाने का प्रस्ताव पारित किया है। जिसकी गत दिवस सरकार ने अधिसूचना भी जारी कर दी है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *