‘पालमपुर : जिज्ञासा’ कार्यक्रम का उद्देश्य: छात्रों में विज्ञान के प्रति रुचि बढ़ाना और शोध कार्यों से अवगत कराना

पालमपुर : “जिज्ञासा”कार्यक्रम का उद्देश्य: छात्रों में विज्ञान के प्रति रुचि बढ़ाना व शोध कार्यों से अवगत कराना

  • ‘जिज्ञासा’ ने विज्ञान की ओर आकर्षित किए विद्यार्थी

रीना ठाकुर/पालमपुर : केंद्रीय विद्यालय भनाला, शाहपुर हिमाचल प्रदेश के 41 छात्रों और उनके 4 शिक्षकों ने 26 जुलाई को ‘जिज्ञासा’ कार्यक्रम के तहत सी.एस.आई.आर.-हिमालय जैवसंपदा प्रौद्योगिकी संस्थान पालमपुर का शैक्षणिक भ्रमण किया। ‘जिग्यासा’ एक छात्र-वैज्ञानिक कनेक्ट कार्यक्रम है, जो कि पूरे भारतवर्ष में वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सी.एस.आई.आर.), नयी दिल्ली और केंद्रीय विद्यालय संगठन के सहयोग से कार्यान्वित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम का लक्ष्य पूरे भारत में सीएसआईआर की 38 राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं और सभी केंद्रीय विद्यालयों को जोड़ने का है, ताकि छात्रों में विज्ञान के प्रति रुचि को बढ़ायी जा सके और विभिन्न संस्थानों में हो रहे शोध कार्यों के बारे में अवगत करवाया जा सके।

       इस उपलक्ष्य पर “एनिमल मॉडल्स का बाओमेडिकल रिसर्च में योगदान” विषय पर एक व्याख्यान का आयोजन किया गया। तत्पश्चात, छात्रों व उनके शिक्षकों ने संस्थान के निदेशक डॉक्टर संजय कुमार, वैज्ञानिकों और रिसर्च स्कोलर्स के साथ यहाँ पर में हो रहे अनुसंधान कार्यों के बारे में बातचीत की और विभिन्न प्रयोगशालाओं में जाकर इन गतिविधियों को विस्तार से जाना। छात्रों व उनके शिक्षकों ने जैव प्रौद्योगिकी, रेग्युलेटरी रिसर्च, पायलट प्लांट फैसिलिटीज, हर्बेरियम, टी प्रोसेसिंग यूनिट, फूड टेक्नोलॉजी व नैनो टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में हो रहे शोध कार्यों के बारे में प्रयोगशालाओं में जाकर विस्तृत जानकारी प्राप्त की। छात्रों को संस्थान द्वारा विकसित उत्पादों व टेक्नोलोजीस के बारे में अवगत करवाया गया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *