एसजेवीएन और नीपको ने किए समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर

एसजेवीएन और नीपको ने किए समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर

शिमला: सीपीएसई कॉन्‍कलेव 2018 में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने न्‍यू इंडिया 2022 के विज़न को रेखांकित किया है।  इस विज़न को प्राप्‍त करने के लिए उन्‍होंने एक महत्‍वपूर्ण पैरामीटर के रूप में अधिकतम भू-सामरिक पहुंच पर जोर दिया।  तदनुसार, एसजेवीएन लिमिटेड ने नीपको के साथ समझौता ज्ञापन में प्रवेश किया है।  समझौता ज्ञापन पर एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्‍द लाल शर्मा व नीपको के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, ए.जी.वेस्‍ट खरकोंगोर ने नई दिल्‍ली में हस्‍ताक्षर किए।

एसजेवीएन और नीपको ने किए समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर

एसजेवीएन और नीपको ने किए समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर

समझौता ज्ञापन तहत दोनों पक्ष भारत के उत्‍तर-पूर्व तथा पूर्वी राज्‍यों में तात्‍कालिक फोकस के साथ भारत एवं विदेश में विद्युत परियोजनाओं के विकास के लिए मिलकर कार्य और सहयोग करेंगे। दोनों पक्षों ने संयुक्‍त उपक्रमों (जेवी), विशेष उद्देश्‍य इकाईयों (एसपीवी) तथा संकाय के रूप में एक गठबंधन में कार्य करने पर भी सहमति व्‍यक्‍त की है। इन इकाईयों में प्रत्‍येक पक्ष के पास न्‍यूनतम 26% स्‍वामित्‍व होगा।

यह समझौता ज्ञापन आज से प्रभावी हो गया है और न्‍यूनतम पांच वर्षों की अवधि के लिए वैध है, जिसे आपसी सहमति से आगे बढ़ाया जा सकता है।

समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर के समय एसजेवीएन से निदेशक (वित्‍त), ए.एस.बिन्‍द्रा, निदेशक(विद्युत), आर.के.बंसल, निदेशक(कार्मिक), गीता कपूर तथा निदेशक (सिविल), एस.पी.बंसल सहित अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ उपस्थित थे। जबकि नीपको से निदेशक (तकनीकी), वी.के.सिंह तथा निदेशक(कार्मिक), अनिल कुमार भी अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ उपस्थित थे। एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्‍द लाल शर्मा ने कहा कि यह एसजेवीएन को 2023 तक 5000 मेगावाट कंपनी,2030 तक 12000 मेगावाट कंपनी तथा 2040 तक 25000 मेगावाट कंपनी बनाने की दिशा में एक कदम है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *