ताज़ा समाचार

हिमाचल प्रदेश की 6 यूनिवर्सिटीज एनआईआरएफ रैंकिंग में दर्ज

हिमाचल प्रदेश की 6 यूनिवर्सिटीज “एनआईआरएफ रैंकिंग” में दर्ज

  • शूलिनी विवि ने हासिल की देश भर में लगातार तीसरे साल 101-150 बैंड में अपना स्थान बनाए रखने की हैट्रिक

सोलन : केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा प्रतिष्ठित नेशनल इंस्टीट्यूशनल रैकिंग्स फ्रेमवर्क (एनआईआरएफ) के तहत दी गई शीर्ष 200 रैंकिंग में हिमाचल प्रदेश में स्थित छह यूनिवर्सिटीज ने नाम दर्ज करवाया है। इनमें से तीन सरकारी विश्वविद्यालय हैं जिनमें डॉ. वाईएस परमार यूनिवर्सिटी ऑफ हॉर्टिकल्चर एंड फॉरेस्ट्री, नौनी, सीएसके कृषि विश्वविद्यालय और हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी और तीन निजी विश्वविद्यालय- शूलिनी यूनिवर्सिटी ऑफ बायोटेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट साइंसेज, जेपी यूनिवर्सिटी, वाकनाघाट और चित्कारा यूनिवर्सिटी, सोलन शामिल हैं। रैंकिंग के विश्लेषण से पता चलता है कि डॉ.परमार यूनिवर्सिटी पिछले साल 71 से 80 की रैंकिंग पर फिसल गई थी जबकि दो अन्य यूनिवर्सिटीज- हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी और चित्कारा यूनिवर्सिटी ओवर ऑल रैंकिंग में 101-150 बैंड से 151-200 बैंड तक फिसल गए थे । वहीं शूलिनी विश्वविद्यालय देश भर में लगातार तीसरे साल लगभग 150 संस्थानों की वृद्धि के बावजूद 101-150 बैंड में अपना स्थान बनाए रखने की हैट्रिक हासिल करने में सफल रहा।

यूनिवर्सिटी के फार्मेसी कॉलेज और उसके मैनेजमेंट विभाग को हिमाचल प्रदेश में नंबर एक स्थान दिया गया था। फार्मेसी कॉलेज को 301 में से 39 वें स्थान पर रखा गया, जबकि इसके मैनेजमेंट विभाग को ऑल इंडिया रैंकिंग में 555 संस्थानों में से 65वीं रैंकिंग मिली है। सिर्फ नौ साल पुरानी यूनिवर्सिटी शायद ऐसी रैंकिंग पाने वाले सबसे कम उम्र की प्राइवेट यूनिवर्सिटीज में से एक है। फार्मेसी और मैनेजमेंट के लिए टॉप 75 सूची में राज्य से कोई अन्य यूनिवर्सिटी नहीं है। राज्य में पांच सरकारी विश्वविद्यालय और 17 निजी विश्वविद्यालय हैं। इस बीच, लगभग 300 यूनिवर्सिटी में से शीर्ष 200 रैंकिंग के लिए दिल्ली के उत्तर में 97 में से कुल 23 यूनिवर्सिटीज हैं, जिन्होंने रैंकिंग के लिए आवेदन किया था।

प्रतिष्ठित रैंकिंग के विश्लेषण से पता चलता है कि सात यूनिवर्सिटीज, सार्वजनिक और निजी दोनों हरियाणा, पंजाब और हिमाचल प्रदेश में छह-छह, जम्मू और कश्मीर में तीन और चंडीगढ़ केंद्र शासित प्रदेश में स्थित हैं। पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ ने 21वां रैंक प्राप्त किया है और इस क्षेत्र में सबसे शिखर पर है और उसके बाद थापर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी) और पंजाब एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी, लुधियाना का नाम आता है।

जम्मू और कश्मीर राज्य में कश्मीर यूनिवर्सिटी, हरियाणा में सीसीएस हरियाणा कृषि यूनिवर्सिटी, हिसार और  हिमाचल प्रदेश में डॉ.वाई.एस.परमार यूनिवर्सिटी ऑफ हॉर्टीकल्चचर एंड फॉरेस्ट्री शिखर पर रही हैं। इस क्षेत्र के कुल 97 सार्वजनिक और निजी विश्वविद्यालयों में से केवल 23 ही टॉप 200 में 23 नाम दर्ज करवाने में सफल रहे हैं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *