वरिष्ठ नागरिकों को मतदान के प्रति किया जाएगा जागरूक

वरिष्ठ नागरिकों को मतदान के प्रति किया जाएगा जागरूक

शिमला:  प्रदेश में लोकसभा चुनाव-2019 में वरिष्ठ नागरिकों की भागीदारी को बढ़ाने के लिए आवश्यक कदम उठाए गए है। इस उद्देश्य के तहत समाज में वरिष्ठ नागरिकों के महत्त्व तथा उनकी विशेष आवश्यकताओं को उठाया जाएगा। मुख्य निर्वाचन अधिकारी देवेश कुमार ने आज यहां जानकारी देते हुए बताया कि मौजूदा तंत्र जैसे की पेंशन योजनाओं के माध्यम से जिला कल्याण अधिकारी/तहसील कल्याण अधिकारी के कार्यालय में वरिष्ठ नागरिकों का नाम मतदाता सूची में दर्ज करवाए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि वरिष्ठ नागरिकों के लिए मतदान के दौरान प्राथमिकता दी जाएगी जिसमें आवश्यकता पड़ने पर व्हील चेयर तथा स्वयं सेवकों की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। इसके अतिरिक्त वृद्धाआश्रमों तथा सेवानिवृत क्लबों में विशेष आऊटरिच कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। 100 वर्ष से अधिक आयु वाले मतदाताओं को स्वतंत्र भारत के प्रथम मतदाता श्याम सरन नेगी की भांति रोल मॉडल बनाकार अन्य मतदाताओं को प्रोत्साहित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि सेवा अर्हता मतदाताओं के नाम दर्ज करवाने से सम्बन्धित जागरूकता पर विशेष बल दिया जाएगा। सुरक्षा बल कर्मियों के लिए जागरूकता तथा पंजीकरण शिविरों के आयोजन किए गए है। इसके अतिरिक्त सम्बन्धित नोडल अधिकारियों को प्रशिक्षण प्रदान कर मतदाताओं को चुनावों के प्रति जागरूक किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव-2019 में हिमाचल प्रदेश में कुल 51,59,000 मतदाता है, जिनमें से 62,131 सेवा अर्हता मतदाता हैं। इस सूची में 26,45,584 पुरुष, 25,13,357 महिलाएं एवं 59 तृतीय लिंग मतदाता है, जो हिमाचल के 7723 मतदाता केन्द्रों पर अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 के विधानसभा चुनावों के समय प्रदेश में कुल 50,25,941 मतदाता थे जिनमें से 37,574 सेवा अर्हता मतदाता थे। वर्ष 2017 में इस सूची में 25,68,761 पुरुष, 24,57,166 महिलाएं एवं 14 तृतीय लिंग मतदाता थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *