एसजेवीएन ने राज्‍य में चार धरोहर स्‍थलों के विकास के लिए प्रदेश सरकार के साथ किया एमओयू साईन

एसजेवीएन ने राज्‍य में चार धरोहर स्‍थलों के विकास के लिए प्रदेश सरकार के साथ किया एमओयू साईन

  • एसजेवीएन फाऊंडेशन इन स्‍थलों के विकास के लिए देगा एक करोड़ रुपए का योगदान
  • एसजेवीएन तारा माता मंदिर परिसर के लिए दो करोड़़ व भीमा काली मंदिर परिसर के लिए दे चुका है एक करोड़ रुपए की वित्‍तीय सहायता

शिमला : एसजेवीएन फाऊंडेशन तथा हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्‍य में चार धरोहर स्‍थलों के विकास के लिए एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर साईन किए हैं।  एसजेवीएन फाऊंडेशन इन स्‍थलों के विकास के लिए एक करोड़ रुपए का योगदान देगा।  यह एमओयू मुख्‍यमंत्री, जय राम ठाकुर की उपस्थिति में अवधेश प्रसाद, अपर महाप्रबंधक (सीएसआर), एसजेवीएन तथा के.के.शर्मा, निदेशक (भाषा, कला एवं संस्‍कृति), हिमाचल प्रदश सरकार द्वारा शिमला में हस्‍ताक्षरित किया गया। इस एमओयू का निष्‍पादन चार सांस्‍कृतिक धरोहर स्‍थलों नामतः सपनी फोर्ट, सांगला, किन्‍नौर, परशुराम मंदिर परिसर, निरमंड, कुल्‍लू, कालका-शिमला रेलवे विश्‍व धरोहर स्‍थल तथा छितकुल गांव, किन्‍नौर के विकास के लिए किया गया है।

एसजेवीएन अपने प्रचालन के ईर्द-गिर्द के क्षेत्रों में सीएसआर गतिविधियां अमल में लाता आ रहा है और हितधारकों के जीवन की गुणवत्‍ता में सुधार लाकर भारी योगदान दे रहा है। एसजेवीएन अपनी सीएसआर एवं सततशीलता परियोजनाएं छह शीर्षों नामतः स्‍वास्‍थ्‍य एवं स्‍वच्‍छता, शिक्षा एवं दक्षता विकास, सततशील विकास, अवसंरचना एवं सामुदायिक विकास, कुदरती आपदाओं के दौरान मदद, संस्‍कृति, विरासत एवं खेलों को बढ़ावा देने में संचालित करता है।

सांस्‍कृतिक शीर्ष के तहत एसजेवीएन फाऊंडेशन विभिन्‍न अंतर्राष्‍ट्रीय एवं राष्‍ट्रीय उत्‍सवों जैसे-अंतर्राष्‍ट्रीय लवी मेला, रामपुर, कुल्‍लू दशहरा, शिमला ग्रीष्‍मोत्‍सव, किन्‍नौर महोत्‍सव आदि के आयोजन में सहायता करता है।   परंपरागत संस्‍कृति के संरक्षणार्थ एसजेवीएन ने तारा माता मंदिर परिसर के लिए दो करोड़़ रुपए तथा भीमा काली मंदिर परिसर के लिए एक करोड़ रुपए की वित्‍तीय सहायता प्रदान की है।   इसके अलावा एसजेवीएन फाऊंडेशन ने मंडी जिले में तत्‍तापानी में बहुउद्देशीय स्‍टेडियम के निर्माण के लिए एक करोड़ रुपए की वित्‍तीय सहायता प्रदान करने के लिए एक एमओयू हस्‍ताक्षरित किया है।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *