हिमाचल: भारी बारिश, बर्फबारी व ओलावृष्टि की चेतावनी के चलते इन तीन जिलों में 17 तक बंद रहेंगे स्कूल...

प्रदेश में बर्फबारी और बारिश की स्थिति की समीक्षा बैठक….

शिमला: मुख्य सचिव बी.के. अग्रवाल की अध्यक्षता में आज यहां प्रदेश के सभी जिलों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से बर्फबारी और वर्षा से उत्पन्न स्थिति का जायजा लेने के लिए एक बैठक आयोजित की गई। अग्रवाल ने आज यहां सड़क, बिजली, पानी की आपूर्ति और आवश्यक सेवाओं की उपलब्धता के संबंध में स्थिति की समीक्षा की।

  • उपायुक्त, शिमला ने बताया कि शिमला शहर के भीतर सड़क संपर्क को सामान्य बना दिया गया है। चिकित्सा सुविधाओं से सम्पर्क बहाल करने को प्राथमिकता दी जा रही है। शहर में 70 प्रतिशत बिजली बहाल हो गई है और शाम तक बिजली पूरी तरह से बहाल होने की संभावना है। शिमला के ऊपरी इलाकों जैसे ठियोग, चौपाल, रोहड़ू, रामपुर, सराहन, कुमारसैन आदि से सड़क संपर्क गड़बड़ा गया है। सम्पर्क सड़कें भी प्रभावित हुई हैं। जिला प्रशासन पर्यटकों की भीड़ संभालने के लिए प्रयासरत है। 
  • उपायुक्त लाहौल और स्पीति ने बताया कि जिले में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गई थी तथा इंटरनेट कनेक्टिविटी भी नही थी। वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान बी.एस.एन.एल. के अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद संचार नेटवर्क को बहाल किया गया। उपायुक्त ने उदयपुर और केलांग से रोगियों को एयर लिफ्ट करने के लिए हेलीकॉप्टर उड़ानों का अनुरोध किया। हिमाचल प्रदेश राज्य विद्युत बोर्ड लिमिटेड के प्रबंध निदेशक को जल्द से जल्द जिले में बिजली आपूर्ति की बहाली सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया था। वीडियो कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि गोंधला में मध्यरात्रि में हिमस्खलन हुआ है जो केलांग-मनाली रोड केलांग से 15 किमी दूर है। इस हिमस्खलन के दौरान महिला मण्डल भवन नीचे दब गया था। 4 नेपाली (2 वयस्क $ 2 बच्चे) जो महिला मंडल भवन के अंदर सो रहे थे, उन्हें सुरक्षित बचाया गया। इस हिमस्खलन में दो गाड़ियां भी दब गई। 
  • उपायुक्त चंबा ने बताया कि जिले के सभी उपमण्डल बाकी स्थानों से कट गए थे तथा जिला मुख्यालय का सड़क संपर्क बहाल कर दिया गया है। 166 सड़कों में से 68 सड़कें शाम तक खुल जाएंगी, जिसके लिए 90 जेसीबी तैनात की गई हैं। अब तक 10 करोड़ रूपए का नुकसान आंका गया है। करियां से चमेरा पावर ग्रिड के लिए 400 केवी बिजली लाइन लुड्डू कथाना में टूट गई थी और 33 केवी चंबा लाइन पर गिर गई है, जिसके परिणामस्वरूप चम्बा में 33 केवी की विफलता हुई है। 132 केवी जसूर-बाथरी लाइन में भी व्यवधान था। सभी 33 केवी लाइनें नीचे खराब थी। 11 केवी भी बाधित हो गया था। 1942 डीटीआर काम नहीं कर रहे हैं। यह बताया गया कि शाम तक चम्बा और तीसा में बिजली की स्थिति को बहाल कर दिया जाएगा। पानी की आपूर्ति सामान्य हैत तथा 26 बसें फंसी हुई हैं।
  • उपायुक्त कुल्लू ने बताया कि 71 सिंचाई और जन स्वास्थ्य योजनाओं को बाधित हुई थी तथा शाम तक इन्हें बहाल कर दिया जाएगा। जिले में 117 सड़कों को बंद हुई है, जिनमें से 40 को आज ही बहाल कर दिया जाएगा तथा जिसके लिए 60 जेसीबी काम पर तैनात है। मनाली से सम्पर्क बहाल कर दिया गया है। 590 डीटीआर में से, 250 को बहाल कर दिया गया है।
  • उपायुक्त किन्नौर ने बताया कि जिले में हिमस्खलन 2 स्थानों पर, एक टिंकू नाला और दूसरा एनएच5 पर हांगरांग के समीप हुआ है। 80 प्रतिशत डी.टी.आर. बहाल कर दिए गए हैं। पेयजल आपूर्ति के साथ कुछ समस्याएं हैं लेकिन इनके समाधान के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। 12-01-2019 से ग्रामीण रूटों पर बसें नही चल रही हैं। अगले 4-5 दिनों के भीतर इन सड़कों को हल्के वाहनों के लिए खोल दिया जाएगा।
  • उपायुक्त मंडी ने बताया कि जिलें में 148 सड़कें प्रभावित हुई हैं और इन्हें खोलने के लिए मशीनरी तैनात की गई है। थुनाग और जंजेहली में संचार सुविधाएं प्रभावित हुई है और इन्हें तुरंत बहाल कर दिया जाएगा। जिले में 175 पेयजल योजनाएं क्षतिग्रस्त हो गई हैं और उन्हें बहाल करने का प्रयास किए जा रहे है। 
  • उपायुक्त ऊना ने बताया कि 13 डी.टी.आर में से 11 को बहाल कर दिया गया है और शेष को शाम तक बहाल कर दिया जाएगा। जिले में गांव टाहलीवाल में एक दुर्घटना दर्ज हुई है जिसमें हाइड्रोजन गैस सिलेंडर से भरा ट्रक दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। दुर्घटना में कुछ लोग हताहतों और कुछ घायलों को हुए है। जिले द्वारा विशेषज्ञ सहायता जुटाई जा रही है।
  • उपायुक्त बिलासपुर ने बताया कि सात सड़कों में से तीन को खोल दिया गया है तथा शेष को शाम तक खोल दिया जाएगा। 67 डी.टी.आर. में से, 65 को बहाल कर दिया गया है और बाकी को शाम तक बहाल कर दिया जाएगा।
  • उपायुक्त हमीरपुर ने बताया कि 30 प्रभावित डी.टी.आर. को शाम तक बहाल कर दिया जाएगा। जिले की सभी सड़कें यातायात के लिए खोली गई हैं। दो गौशालाओं को नुकसान की सूचना  है।
  • उपायुक्त कांगड़ा ने बताया कि जिले का मुल्थान क्षेत्र बर्फबारी से प्रभावित हुआ है। बिजली गिरने और बारिश के कारण चार घरों को नुकसान पहुंचा है।
  • उपायुक्त सोलन ने बताया कि चायल, कसौली और सुबाथू में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। 993 डी.टी.आर. में से, 642 को बहाल किया गया है तथा शेष को शाम तक बहाल किया जाएगा। आठ सड़कों को बंद कर दिया गया है, जिनमें से 6 को खोला गया है और बाकी को शाम तक खोला जाएगा।
  • उपायुक्त सिरमौर ने बताया कि जिले में 33 सड़कें प्रभावित हुई हैं। आठ जलापूर्ति योजनाएं भी प्रभावित हुई हैं। 968 डी.टी.आर. प्रभावित हुए हैं तथा नाहन से राजगढ़ तक की मुख्य आपूर्ति लाइन भी बाधित हुई है।

यह आकलन किया गया कि शाम तक स्थिति सामान्य हो जाएगी और कल या परसों तक सुधार होगा। उपायुक्तों और विभागों को यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया था कि सड़क, बिजली, पेयजल और अन्य आवश्यक सेवाओं को जल्द से जल्द सामान्य बनाया जाए ताकि आम जनता को कम से कम असुविधा हो।

अतिरिक्त मुख्य सचिव (राजस्व) मनीषा नंदा, प्रधान सचिव (ऊर्जा) प्रबोध सक्सेना, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव संजय कुंडू, सचिव (आईपीएच) देवेश कुमार विशेष सचिव राजस्व-आपदा प्रबंधन  डीसी राणा, इंजीनियर-इन-चीफ (लोक निर्माण) आरपी वर्मा इंजीनियरिंग-इन-चीफ (पी) लोक निर्माण, आर.के. वर्मा, इंजीनियर-इन-चीफ (आईपीएच) सुमन विक्रांत, राज्य विद्युत बोर्ड के प्रबंध निदेशक, जे.पी. काल्टा, महाप्रबंधक (बी.एस.एन.एल), एम.सी.नेगी, बी.एस.एन.एल (डी.जी.एम), आर.पी. सिंह, सभी उपायुक्त या उनके प्रतिनिधियों और लाइन विभागों के अधिकारियों ने वीडियो कॉन्फ्रेंस में भाग लिया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *