शिमला: बर्फबारी के दौरान पेड़ों के गिरने की सम्भावना के मद्देनजर कटर्ज का विशेष प्रबंध करने के निर्देश

शिमला: बर्फबारी के दौरान पेड़ों के गिरने की सम्भावना के मद्देनजर कटर्ज का विशेष प्रबंध करने के निर्देश

  • बर्फबारी की संभावना के चलते शिमला शहर को पांच सैक्टर में बांटा

शिमला: शिमला शहर में विभिन्न सड़कों व मार्गों में फायर टैंडर व क्विक रिस्पोंस व्हिकल के माध्यम से माक ड्रिल की जाएगी, ताकि किसी भी तरह की आगजनी की घटना होने पर अग्निशमन कार्य में कोई बाधा उत्पन्न न हो। यह कार्य अग्निशमन और पुलिस विभाग द्वारा संयुक्त रूप से किया जाएगा। उपायुक्त शिमला अमित कश्यप ने आज यह बात यहां संभावित बर्फबारी के दौरान विभिन्न प्रबंधों की समीक्षा के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते कही। अमित कश्यप ने कहा कि सड़कों के किनारे अनाधिकृत पार्किंग के कारण कई बार अग्निशमन विभाग के फायर टैंडर घटनास्थल तक पहुंच नहीं पाते हैं और नुकसान की आशंका बनी रहती है, इसलिए इस तरह का माक ड्रिल करना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि जिला में आपातकालीन परिचालन केंद्र सुचारू किया गया है। यहां स्थापित दूरभाष नम्बर 1077 के माध्यम से विभिन्न विभागों में समन्वय तथा आम जनता भी आपातकालीन सहायता प्राप्त तथा विभिन्न जानकारियां प्रशासन को प्रदान कर सकती है। उपायुक्त ने जिला के सभी उपमंडलाधिकारियों को बर्फबारी के दौरान जनजीवन सामान्य बनाए रखने के लिए प्रबंधों की समीक्षा करने तथा सभी तैयारियां समयबद्ध पूर्ण करने के निर्देश दिये हैं।

उन्होंने राष्ट्रीय उच्च मार्ग के अधिकारियों को चिन्हित स्थलों में बर्फ हटाने के लिए मशीने तैनात करने के निर्देश दिये हैं, ताकि जरूरत पड़ने पर समयबद्ध तरीके से यातायात को सुचारू बनाया जा सके। जिन सड़कों व मार्गों में बर्फ जमने के कारण फिसलन बहुत अधिक हो जाती है, उन स्थानों में हर 100 मीटर या 50 मीटर के दायरे में रेत का भण्डारण करने तथा समय-समय पर रेत डालने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने उन सड़कों पर सुबह या शाम के समय बुल्डोजर या चेनयुक्त जेसीबी चलाने के निर्देश दिये, जहां बर्फबारी के बाद बहुत ज्यादा फिसलन हो जाती है।

उन्होंने वन विभाग को बर्फबारी के दौरान पेड़ों के गिरने की सम्भावना के मद्देनजर कटर्ज का विशेष प्रबंध करने के निर्देश दिये हैं, ताकि विद्युत व यातायात व्यवस्था को अतिशीघ्र सुचारू बनाया जा सके। उन्होंने पीडब्ल्यूडी और नगर निगम शिमला को सम्भावित बर्फबारी के तुरंत बाद सड़कों व विभिन्न मार्गों से बर्फ हटाने का कार्य शुरू करने के निर्देश दिये, ताकि सभी व्यवस्थाएं सुचारू रहें और जनजीवन भी प्रभावित न हो।

नगर निगम शिमला क्षेत्र में शिमला शहर को पांच सैक्टर में विभाजित कर नोडल अधिकारी तैनात किये गये हैं तथा समन्वय के लिए जिला के वरिष्ठ अधिकारियों की ड्यूटी भी लगाई गई है। सभी विभागों को आपसी समन्वय के लिए जरूरी दिशा-निर्देश दिये गये हैं तथा स्नो मैनुअल के तहत कदम उठाए गए हैं।

  • सैक्टर-1 में छोटा शिमला, संजौली, ढली, कुफरी, नालदेहरा, मशोबरा व बल्देयां क्षेत्र शामिल हैं।
  • सैक्टर-2 में ढली-संजौली बाईपास, आईजीएमसी, लक्कड़-बाजार विक्ट्री टनल तक, कैथू, भराड़ी, एजी आॅफिस, अन्नाडेल, चैड़ा मैदान व हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय क्षेत्र शामिल हैं।
  • सैक्टर-3 में बाईपास एनएच रोड़ वाया आईएसबीटी शोघी तक, चक्कर, बालुगंज, टुटू, जतोग, नाभा और फागली क्षेत्र शामिल हैं।
  • सैक्टर-4 में उपायुक्त कार्यालय, विक्ट्री टनल से कार्ट रोड़ छोटा शिमला तक, ओक ओवर, यूएस क्लब, रिज, हालीलाज, जाखू, रिच माउंट, रामचंद्र चैक, केएनएच व उच्च न्यायालय क्षेत्र शामिल हैं।
  • सैक्टर-5 में हिमाचल प्रदेश सचिवालय, छोटा शिमला, ब्राकहास्ट, खलीनी, बीसीएस, विकासनगर, कसुम्पटी, पंथाघाटी और मैहली क्षेत्र शामिल हैं। 

उन्होंने हिमाचल पथ परिवहन को वैकल्पिक मार्गों से बसें भेजने तथा स्वास्थ्य विभाग को चेन वाली ऐंबुलेंस का प्रबंध करने के भी निर्देश दिये। उपायुक्त ने लोक निर्माण विभाग को छराबड़ा, गलु सहित अन्य महत्वपूर्ण स्थलों में बर्फ के कारण फिसलन होने की संभावना की चेतावनी के साईनेज लगाने के निर्देश दिये, ताकि बाहर से आने वाले वाहनों के चालकों को जरूरी सूचना प्राप्त हो सके। नगर निगम शिमला के अधिकारियों ने बताया कि शिमला में पेयजल की आपूर्ति सामान्य है तथा बर्फबारी की संभावना के मद्देनजर सभी तैयारियां पूर्ण की गई हैं।

उपायुक्त ने बीएसएनएल, आईपीएच, पीडब्ल्यूडी, अग्निशमन विभाग, एचआरटीसी, खाद्य एवं आपूर्ति, स्वास्थ्य विभाग, पर्यटन विभाग के अधिकारियों को भी जरूरी दिशा निर्देश दिये। उपायुक्त ने बताया कि जिला के दूर-दराज के क्षेत्रों में खाद्यान्न समुचित मात्रा में उपलब्ध है।

प्रशासन द्वारा बर्फबारी की संभावना के मद्देनजर ऐसी सड़कें व मार्ग भी चिन्हित किये गये हैं, जहां पर प्राथमिकता के आधार पर बर्फ हटाई जाएगी। इसमें संजौली से आईजीएमसी, आईजीएमसी से कैंसर हास्पिटल, केएनएच से कार्ट रोड़, राजभवन से ओक ओवर, रिज, रिच माउंट, यूएस क्लब, ओक ओवर व सचिवालय, पीटरहाफ से चौड़ा मैदान, ऐजी आफिस, लिफ्ट से उच्च न्यायालय, कार्ट रोड़ से विक्ट्री टनल से सचिवालय, कार्ट रोड़ से विक्ट्री टनल से संजौली वाया लक्कड़-बाजार, कनेडी चैक से अन्नाडेल, छोटा शिमला से कसुम्पटी और पंथाघाटी, मैहली से शोघी वाया टुटीकंडी आदि प्रमुखता से शामिल हैं।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *