शिमला: ऊर्जा मंत्री ने प्रदान किये आवेदकों को ‘रूफटाप पावर प्लांट’ लगाने के लिए स्वीकृति पत्र

शिमला: ऊर्जा मंत्री ने प्रदान किये आवेदकों को ‘रूफटाप पावर प्लांट’ लगाने के लिए स्वीकृति पत्र

  • प्रदेश सरकार का फरवरी, 2020 तक ग्रिड से जुड़े सोलर रूफटाप लगाने के लिए 10 मेगावाट का लक्ष्य
  • आगामी 3 और 4 दिसम्बर को मण्डी जिला में लगाया जाएगा सौर ऊर्जा मेला
  • सौर ऊर्जा मेले में 150 लोगों को सौर ऊर्जा रूफटाप लगाने के लिए प्रदान किये स्वीकृति प्रपत्र

शिमला: शिमला में हिम ऊर्जा विभाग द्वारा दो दिवसीय सौर ऊर्जा मेला आयोजित किया जा रहा है। सौर ऊर्जा मेले में ऊर्जा, बहुद्देश्यीय परियोजना व पारंपरिक ऊर्जा स्त्रोत मंत्री अनिल शर्मा ने आज आवेदकों को ‘रूफटाप पावर प्लांट’ लगाने के लिए स्वीकृति पत्र प्रदान किये। यह स्वीकृति पत्र उन आवेदकों को प्रदान किये गये, जिन्होंने दो दिवसीय सौर ऊर्जा मेले के दौरान रूफटाप पावर प्लांट लगाने के लिए आवेदन किया था। इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव व अध्यक्ष एचपीएसईबीएल डॉ. श्रीकांत बाल्दी, प्रधान सचिव ऊर्जा प्रबोध सक्सेना, मुख्य कार्यकारी अधिकारी हिमऊर्जा आशुतोष गर्ग, प्रबन्ध निदेशक एचपीएसईबीएल जेपी काल्टा और गणमान्य लोग उपस्थित थे।

इस अवसर पर अनिल शर्मा ने कहा कि सरकार द्वारा सोलर रूफटाप पावर प्लांट लगाने की प्रक्रिया का सरलीकरण किया गया है, ताकि लोगों को अधिक से अधिक संख्या में लाभान्वित किया जा सके। प्रदेश सरकार ने फरवरी, 2020 तक ग्रिड से जुड़े सोलर रूफटाप लगाने के लिए 10 मेगावाट का लक्ष्य निर्धारित किया है, ताकि सौर ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा दिया जा सके और राज्य में सौर ऊर्जा का तीव्र दोहन सुनिश्चित किया जाए।

उन्होंने कहा कि पहले ग्रिड से जुड़े सोलर रूफटाप की दरें 61 हजार रुपये प्रति किलोवाट थी, जिसे अब घटाकर 53 हजार 150 रुपये किया गया है। सोलर रूफटाप लगाने के लिए नवीन व नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय भारत सरकार द्वारा 70 प्रतिशत सबसिडी तथा राज्य सरकार द्वारा चार हजार रुपये प्रतिकिलो वाट सबसिडी हिमऊर्जा के माध्यम से दी जा रही है। राज्य सरकार द्वारा दी गई सबसिडी उपभोक्ता के खाते में जमा की जाएगी। इस प्रकार एक किलोवाट का प्लांट 11 हजार 945 रुपये में स्थापित होगा। उन्होंने बताया कि आगामी 3 और 4 दिसम्बर को मण्डी जिला में भी सौर ऊर्जा मेला लगाया जाएगा। इस तरह के मेले अन्य क्षेत्रों में भी आयोजित किये जाएंगे।

सौर ऊर्जा मेले में पांच सौ किलोवाट के 150 लोगों को सौर ऊर्जा रूफटाप लगाने के लिए स्वीकृति प्रपत्र प्रदान किये गये।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *