हिमाचल कृषि विश्वविद्यालय में रबी फसलों पर राज्य स्तरीय कार्यशाला आयोजित

हिमाचल कृषि विश्वविद्यालय में रबी फसलों पर राज्य स्तरीय कार्यशाला आयोजित

  • कृषि अधिकारी बीज से प्रगतिशील किसानों को प्रतिभागी बनाकर उनसे आधार व प्रमाणित बीज करवाएं तैयार : कुलपति प्रोफेसर अशोक कुमार सरियल
  • हिमाचल किसानों के लिए सब्सिडी मशीनरी पर बढ़ा बजट : कृषि विभाग निदेशक डॉ. देश राज
  • आने वाले रबी मौसम के लिए 76500 क्विंटल बीज की व्यवस्था
  • किसानों को किए जाएंगे 60000 कृषि उपकरण वितरित
  • कृषि मशीनीकरण बजट बढ़ाकर 37 करोड़, खुलेंगे 30 नए कस्टम भर्ती सेंटर

कांगड़ा: हिमाचल कृषि विश्वविद्यालय में रबी फसलों पर राज्यस्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में करीब 200 कृषि अधिकारियों और वैज्ञानिकों ने हिस्सा लिया. कार्यशाला का उद्घाटन कुलपति प्रोफेसर अशोक कुमार सरियल ने किया।

कुलपति प्रोफेसर अशोक कुमार सरियल ने बताया कि प्रमुख फसल किस्मों के ब्रीडर बीज विश्वविद्यालय में उपलब्ध है और कृषि अधिकारियों को प्रगतिशील किसानों सहित बड़े पैमाने पर नींव और प्रमाणित बीज का उत्पादन करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि सरसों की नई किस्म में कीड़ा और बीमारी भी जल्द नहीं लगती है। वर्तमान में प्रचलित किस्मों से एक क्विंटल सरसों से साढ़े 35 किलो तक तेल निकाला जाता है, वहीं इससे 40 किलोग्राम तक निकलेगा। यह किस्म सिंचित निचले व मध्य पहाड़ी क्षेत्रों में बिजाई के लिए है।  सरयाल ने कहा कि कृषि अधिकारियों को चाहिए कि वे बीज से प्रगतिशील किसानों को प्रतिभागी बनाकर उनसे आधार व प्रमाणित बीज तैयार करवाएं।

कृषि विभाग निदेशक डॉ. देश राज ने बताया गया कि आने वाले रबी मौसम के लिए 76,500 क्विंटल बीज की व्यवस्था की गई है और किसानों को 60,000 कृषि उपकरण भी वितरित किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि किसानों को प्रोत्साहन के साथ कृषि मशीनीकरण बजट बढ़ाकर 37 करोड़ कर दिया गया है और 30 कस्टम भर्ती केंद्र खोले जाएंगे।

अनुसंधान के निदेशक डॉ. वत्स ने बताया कि पिछले रबी सत्र के दौरान 66850 किलो ब्रीडर बीज और अनाज, दालें, तिलहन, सब्जियां और चारा फसलों के 10000 किलोग्राम फाउंडेशन बीज का उत्पादन किया गया था। उन्होंने  निम्न और मध्य पहाड़ियों में खेती के लिए भारतीय सरसों की विविधता ट्रॉम्बे हिम पालम सरसों -172 के रिलीज प्रस्ताव के बारे में और विश्वविद्यालय में 4 करोड़ रुपये की 145 शोध परियोजनाओं के बारे में जानकारी दी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  +  1  =  7