टांडा मेडिकल कॉलेज का प्रथम दीक्षांत समारोह, राष्ट्रपति ने उत्कृष्ट विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक से नवाज़ा

टांडा मेडिकल कॉलेज का प्रथम दीक्षांत समारोह, राष्ट्रपति ने उत्कृष्ट विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक से नवाज़ा

  • डॉ. राजेन्द्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज टांडा का प्रथम दीक्षांत समारोह आयोजित
  • प्रभावी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए बड़ी संख्या में अच्छे डॉक्टरों तथा मेडिकल कालेजों की आवश्यकता : राष्ट्रपति

धर्मशाला: राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आज हिमाचल प्रदेश के डॉ. राजेन्द्र प्रसाद राजकीय मेडिकल कालेज कांगड़ा के प्रथम दीक्षांत समारोह में शिरकत की और मेडिकल कालेज के आठ मेधावी छात्र-छात्राओं को 11 स्वर्ण पदक प्रदान किए। इस अवसर पर संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि प्रभावी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए बड़ी संख्या में अच्छे डॉक्टरों तथा मेडिकल कालेजों की आवश्यकता है। अच्छे स्वास्थ्य संस्थान प्रोत्साहित करने तथा चिकित्सा शिक्षा की चुनौतियों से निपटने के लिए हाल ही में भारतीय चिकित्सा परिषद (संशोधन) अध्यादेश, 2018 की घोषणा की गई है। यह अध्यादेश मेडिकल कालेजों तथा संस्थानों की स्थापना, विस्तार तथा आधुनिकीकरण को प्रोत्साहित करेगा।

राष्ट्रपति ने कहा कि डॉ. राजेन्द्र प्रसाद राजकीय मेडिकल कॉलेज कांगड़ा अपनी छोटी सी शुरूआत से क्षेत्र का एक प्रतिष्ठित मेडिकल संस्थान बनकर उभरा है। उन्होंने मेडल प्राप्त करने वाले मेधावी छात्र-छात्राओं को बधाई दी और उनके खुशहाल एवं सुनहरे भविष्य की कामना की।

  • चिकित्सकों को लोगों, विशेषकर युवा पीढ़ी को सादे व तनावमुक्त जीवन जीने के लिए प्रेरित करना चाहिए : राज्यपाल

इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने मेडल जीतने वाले मेधावी छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए कहा कि किसी भी शिक्षित व्यक्ति का पहला और सबसे बड़ा गुण जीवन भर सीखते रहना है, जिससे वह अपने आप को आधुनिक ज्ञान से अपडेट रख सकता है। राज्यपाल ने कहा कि इस संस्थान से पास हुए चिकित्सकों को समाज की इस प्रकार सेवा करनी चाहिए ताकि संस्थान को अपने विद्यार्थियों पर गर्व महसूस हो। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी को एक सादा जीवन जीना चाहिए। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों को लोगों, विशेषकर युवा पीढ़ी को सादे तथा तनावमुक्त जीवन जीने के लिए प्रेरित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह देखकर खुशी होती है कि स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले आठ विद्यार्थियों में सात लड़कियां हैं।

  • राज्य के लोगों की सेवा के लिए सभी स्वास्थ्य संस्थानों में उत्कृट चिकित्सक उपलब्ध होंगे : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि डॉ. राजेन्द्र प्रसाद राजकीय मेडिकल कॉलेज टांड़ा की स्थापना 1997 में की गई थी और इसका पहला सत्र 1998 में शुरू हुआ था। उन्होंने कहा कि 20 वर्षों की इस छोटी अवधि में इस कॉलेज ने एक विशेष स्थान अर्जित कर लिया है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि वर्तमान में राज्य में अकेले सरकारी क्षेत्र में छः मेडिकल कॉलेज हैं। उन्होंने कहा कि इसके अलावा केन्द्र सरकार ने राज्य के लिए एम्स स्वीकृत किया है, जिसे बिलासपुर जिला के कोठीपुरा में खोला जाएगा। उन्होंने कहा कि इन सभी प्रतिष्ठित संस्थानों के माध्यम से राज्य हर वर्ष 600 चिकित्सक तैयार करेगा और राज्य के लोगों की सेवा के लिए सभी स्वास्थ्य संस्थानों में उत्कृट चिकित्सक उपलब्ध होंगे। मुख्यमंत्री ने समाज में नशे की बुराई से लड़ने के लिए युवाओं को एकजुट आगे आने का आग्रह किया ताकि युवा पीढ़ी को बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की पहल पर नशाखोरी की समस्या से निपटने के लिए एक संयुक्त रणनीति तैयार करने के लिए चार पड़ोसी राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक आयोजित की गई थी।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *