प्रदेश सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में छोटी गाड़ियों के परमिट देने की तैयारी में

शिमला शहर को जल्द मिलेगी 30 नई इलेक्ट्रिक बसें : परिवहन मंत्री

शिमला: प्रदेश सरकार शिमला शहरवासियों को आरामदायक यात्रा सुविधा एवं प्रदुषण मुक्त परिवहन व्यवस्था के लिए शीघ्र ही 30 नई इलेक्ट्रिक बसें खरीदने जा रही है। परिवहन मन्त्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने आज यहां जानकारी देते हुए बताया कि सारी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद इन बसों को खरीदने के आदेश जारी कर दिये गए हैं।

परिवहन मंत्री ने कहा कि इन बसों से शिमला शसहरवासियों को जहां आरामदायक यात्रा सुविधा हासिल होगी वहीं धुआं रहित इन बसों से दिनों-दिन बढ़ते प्रदूषण से भी निजात मिलेगी। उन्होंने कहा कि इस बार बसों की खरीद के लिए भारत सरकार द्वारा तय मापदंडों का सख्ती से पालन करते हुए कम से कम कीमत में सर्वोत्तम गुणवता वाली बसों को खरीदा जा रहा है। उन्होंने ने कहा कि शिमला शहर के लिए केन्द्र सरकार के भारी उद्योग एवं सार्वजनिक उपक्रम मन्त्रालय के सहयोग से 50 इलेक्ट्रिक बसें खरीदी जानी हैं, जिनमें तीस बसें 9 मीटर तथा बीस बसें 7 मीटर लम्बाई की हैं।

गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के कुशल नेतृत्व में परिवहन क्षेत्र में एक और आयाम स्थापित करते हुए प्रदेश सरकार ने देश भर में न्यूनतम कीमत में बसों को खरीद रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार 76.97 लाख रुपए में 9 मीटर लम्बी 31 सीटर 30 इलेक्ट्रिक बसें खरीद रही है जो पूर्व की कांग्रेस सरकार द्वारा करीब दो करोड़ रुपए में खरीदी गई बसों से गुणवता, कीमत तथा आराम के मामलों में अब्बल हैं। उन्होंने कहा कि खरीदी जा रही बसों की यह विशेषता है कि पूर्व में खरीदी गई बसें फुल चार्ज होने में पांच से छः घंटे का समय लेती थीं जबकि ये बसें केवल आधे घन्टे में ही फुल चार्ज हो जाएंगी।

परिवहन मन्त्री ने कहा कि यह जय राम ठाकुर के कुशल नेतृत्व का ही परिणाम है कि प्रदेश सरकार मितव्यता को ध्यान में रखते हुए कम से कम कीमत पर प्रदेशवासियों को आरामदायी एवं प्रदूषण मुक्त परिवहन सुविधा प्रदान करने जा रही है।

उन्होंने कहा कि इस के अतिरिक्त सात मीटर लम्बाई की 20 और बसें शिमला शहर के लिए खरीदी जानी हैं, जिन्हें खरीदने की प्रक्रिया जारी है। उन्होंने उम्मीद जताई कि औपचारिकताएं पूर्ण होने के बाद शीघ्र ही ये 20 बसें भी शिमला शहरवासियों को उपलब्ध हो जाएंगी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *