मुख्यमंत्री ने जंजैहली क्षेत्र को करोड़ों की सौगात, 55 करोड़ की परियोजनाओं की रखी आधारशिला

मुख्यमंत्री ने जंजैहली क्षेत्र को करोड़ों की सौगात, 55 करोड़ की परियोजनाओं की रखी आधारशिला

  • जंजैहली में हिमाचल पथ परिवहन निगम के उप डिपो खोलने की घोषणा

मण्डी:  प्रदेश सरकार राज्य में वन आवरण को बढ़ाने के लिए वचनबद्ध है, जिसके लिए प्रत्येक का सक्रिय सहयोग अपेक्षित है। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर आज मण्डी ज़िला के जंजैहली में राज्य स्तरीय वन्य प्राणी सप्ताह पर आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का नौ माह का कार्यकाल उपलब्धियों भरा है और सरकार केन्द्र सरकार से 9000 करोड़ रुपये की विकासात्मक परियोजना को स्वीकृत करवाने में सफल रही है। यह सब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रदेश के प्रति स्नेह के कारण संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि यही नहीं केन्द्र सरकार ने हाल ही में लाहौल-स्पीति में समय पूर्व बर्फबारी के दौरान भी हर संभव सहायता उपलब्ध करवाई, केन्द्र सरकार द्वारा बर्फबारी में फसे लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए सात हेलीकॉप्टर उपलब्ध करवाए गए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज 55 करोड़ रुपये की विकासात्मक परियोजनाओं की आधारशिला रखी गई, जिससे क्षेत्र में विकास व समृद्धि का नया अध्याय आरम्भ होगा। डीमकटारू में निर्मित किए जाने वाले पर्यटक सांस्कृतिक केन्द्र से प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में पर्यटन की अपार क्षमताएं हैं, जिनका योजनाबद्ध दोहन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जंजैहली को इको पर्यटन परियोजना के तहत लाया गया है ताकि क्षेत्र मुख्य पर्यटक गंतव्य के रूप में विकसित हो सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार शिमला ज़िला के चांशल, कांगड़ा ज़िला की बीड़ बिलिंग तथा मण्डी ज़िला के जंजैहली को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करेगी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर भुलार से मण्डी के लिए बस सेवा को झण्डी दिखाकर आरम्भ किया, जिससे पर्यटकों को इन पर्यटन गंतव्यों के भ्रमण करने में सहायता मिलेगी। उन्होंने कहा कि बालीचौकी क्षेत्र को 41 करोड़ रुपये की जलापूर्ति योजना स्वीकृत की गई है और निकट भविष्य में जंजैहली में बस अड्डे का निर्माण भी किया जाएगा।

जय राम ठाकुर ने कहा कि जंजैहली में पर्यटकों की सुविधा के लिए हेलीपेड निर्माण के प्रयास किए जाएंगे ताकि इस सुन्दर क्षेत्र में और अधिक पर्यटक भ्रमण कर सके। उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में जंजैहली को हेलीटैक्सी सेवा से जोड़ने के भी प्रयास किए जाएंगे।

इससे पूर्व ग्राम पंचायत धार-जरोल में मुख्यमंत्री ने जुघंड सड़क (चरण-दो) के स्तरोन्नयन व सुधार, ग्राम पंचायत जरोल के ही धार सम्पर्क मार्ग के द्वितीय चरण के सुधार तथा कुठाह-तुंगाधार सड़क सुधार व उन्नयन (चरण-एक) के निर्माण पर क्रमशः 345.45 लाख, 117.67 लाख, 106.37 लाख तथा 286.61 लाख रुपये की लागत आएगी, का भी भूमि पूजन किया। मुख्यमंत्री ने जंजैहली से लम्बाथाच के लिए 146.05 लाख रुपये की लागत से निर्मित होने वाली सिंचाई योजना की जंजैहली में आधारशिला रखी। उन्होंने जंजैहली में नवसृजित लोक निर्माण विभाग मण्डल सिराज का भी लोकार्पण के अतिरिक्त   230.66 लाख रुपये की लागत से निर्मित होने वाले लोक निर्माण विभाग के कार्यालय भवन की भी आधारशिला रखी। उन्होंने बुलाह में जैव विविधता पार्क की आधारशिला रखी। उन्होंने वन्य प्राणी प्रस्तुतीकरण केन्द्र शिकारी देवी वन्य प्राणी अभ्यारण्य बुलाह में तथा राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सांगलवाला के स्कूल भवन की आधारशिला रखी, जिसपर क्रमशः 88 लाख रुपये, 1.5 करोड़ तथा 85.77 लाख रुपये की राशि व्यय की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने जंजैहली क्षेत्र की विभिन्न पेयजल आपूर्ति योजनाओं के संवर्द्धन की डीमकटारू, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य निरीक्षण कुटीर, खानुखली में पर्यटन सांस्कृतिक केन्द्र की डीमकटारू में आधारशिला रखी, जिस पर क्रमशः 7.78 करोड़, 1.75 करोड़ तथा 25.18 करोड़ रुपये व्यय किए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जंजैहली में 132.81 लाख रुपये की लागत से निर्मित होने वाली विज्ञान प्रयोगशाला की भी आधारशिला रखी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर वन विभाग के राज्य वन्य जीव प्रभाग की वेबसाइट का भी शुभारम्भ किया, जिसमें प्रदेश की वन्य जीव अभ्यारण्यों व विभिन्न पक्षिओं के बारे में विस्तृत जानकारी उपलब्ध होगी। उन्होंने राज्य वन विभाग द्वारा तैयार की गई पुस्तिका व वृतचित्र का भी विमोचन किया।

मुख्यमंत्री ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जरोल को विज्ञान प्रयोगशाला के लिए एक करोड़ रुपये, विभिन्न सम्पर्क मार्गों के लिए 31 लाख रुपये, जंजैहली में 33केवी विद्युत उपकेन्द्र, राजकीय प्राथमिक पाठशाला कटरू को स्तरोन्नत कर माध्यमिक पाठशाला बनाने की घोषणा की। उन्होंने सात महिला मण्डलों को महिला मण्डल भवन निर्माण के लिए दो-दो लाख रुपये प्रदान करने की घोषणा की। उन्होंने जंजैहली के लिए हिमाचल पथ परिवहन निगम के उप डिपो की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर विभिन्न सामाजिक व सांस्कृतिक संगठनों को भी सम्मानित किया। उन्होंने मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के अंतर्गत निःशुल्क गैस कनेक्शन भी वितरित किए।

सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के कुशल नेतृत्व में प्रगति व समृद्धि के पथ पर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा वर्षा जल संग्रहण व भू-संरक्षण पर विशेष बल दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भी लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में पुरानी जलापूर्ति योजनाओं के पुनः निर्माण के लिए केन्द्र सरकार से 798 करोड़ रुपये की परियोजनाएं स्वीकृत करवाने में सफल हुई है। उन्होंने कहा कि केन्द्र द्वारा प्रदेश के लिए 1688 करोड़ रुपये की बागवानी परियोजना भी स्वीकृत की है।

वन एवं परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में अपार वन सम्पदा है, जिन्हें हम सभी को संरक्षित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारे प्रदेश की सुन्दरता पुरानी पारिस्थितिकी में छुपी है और हिमाचल प्रदेश की जंगल व वन सम्पदा के बिना कल्पना भी नहीं की जा सकती।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *