हिमालयी राज्यों के समग्र विकास को लेकर शिमला में 11 हिमालयी राज्यों ने साँझा किए अपने विचार

हिमालयी राज्यों के समग्र विकास को लेकर शिमला में 11 हिमालयी राज्यों ने साँझा किए अपने विचार

  • हिमालयी राज्यों के समग्र विकास के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की एक मंच पर आने की वकालत

शिमला: हिमालयी राज्यों के समग्र विकास के लिए आम हित के मुददों को केन्द्र सरकार के साथ उठाने के लिए हिमालयी राज्यों को एक मंच पर आना चाहिए। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने यह बात हि.प्र. राज्य विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण परिषद द्वारा समेकित पर्वतीय पहल तथा शूलिनी विश्वविद्यालय सोलन के संयुक्त तत्वावधान में ‘हिमालयी लोगों की भावी पीढ़ी के कल्याण’ पर शुक्रवार को शिमला में आयोजित हिमालयी राज्यों के सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कही। इस सम्मेलन में नेपाल और देश के 11 हिमालयी राज्यों ने भाग लिया।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हिमालयी राज्यों की विकासात्मक जरूरतों के प्रति संवेदनशील हैं और इसी के मध्यनजर केन्द्र सरकार द्वारा पहाड़ी क्षेत्रों के विकास के लिए अनेक नई योजनाएं आरम्भ की हैं। उन्होंने कहा कि यह सम्मेलन मुख्य तीन क्षेत्रों कृषि, पर्यटन तथा जल विद्युत में विकास की संयुक्त रणनीति बनाने में सहायक सिद्ध होगा। जय राम ठाकुर ने कहा कि जल विद्युत क्षेत्र हिमालयी राज्यों के विकास तथा उन्नति के लिए महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि अभी भी इन राज्यों को प्राकृतिक तथा अन्य बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि वर्षा पैटर्न और जलवायु परिवर्तन के प्रभाव, विशेषकर भारतीय हिमालयी क्षेत्र में जल विद्युत उत्पादन पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। इस प्रकार हिमालयी राज्यों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी में मानव तथा पूंजीगत निवेश द्वारा संचालित अपरंपरागत अनुकूलन सम्भावनाओं का पता लगाने की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की लगभग 90 प्रतिशत आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में बसती है और इसमें से 58 प्रतिशत अपनी घरेलू आय व रोजगार के लिए कृषि पर निर्भर करती है। उन्होंने कहा कि किसान भूमि के छोटे टुकड़ों पर निर्भर करते हैं, कुछ मामलों में एक हैक्टेयर से भी कम भूमि है, जो खाद्य तथा आय सुरक्षा को सुनिश्चित करने के नाकाफी है और जलवायु परिवर्तन प्रभाव को अपनाने की क्षमता को दरकिनार करती है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि प्राकृतिक सौन्दर्य और अनुभव से परिपूर्ण पहाड़ी राज्य हमेशा प्रकृति से प्रेरित पर्यटन पर निर्भर करते हैं। उन्होंने कहा कि बड़े पैमाने पर पर्यटन की लोकप्रियता और प्रसार हमारे शहरी क्षेत्रों, स्थानीय समुदायों और भारतीय हिमालयी क्षेत्र में पारिस्थितिक रूप से संवेदनशील क्षेत्रों की क्षमता के लिए नुकसानदायी है। उन्होंने कहा कि यह चिन्ता की बात है कि पर्यटन कुछ ही क्षेत्रों में केन्द्रित हो रहा है जो पर्यटकों के लिए पारम्परिक विकल्प रहे हैं। उदाहरण के तौर पर 50 प्रतिशत सैलानी केवल शिमला, कुल्लू तथा कांगड़ा जिलों के शहरी क्षेत्रों में ही जाते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में जिम्मेवार पर्यटन को अपनाने के लिए सहायता और दृढ़ नीति अपनाई है ताकि विभिन्न पहल और नीतियों जैसे पारिस्थितिकी पर्यटन, ग्रामीण होम-स्टे इत्यादि विशिष्ट पर्यटन विकल्प हो सकें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार देवभूमि हिमाचल के वैभव को बचाने के लिए सम्भावित तरीकों को सावधानीपूर्वक अपना रही है।

  • हिमालयी राज्यों में अपने उत्पादों के मूल्यबर्धन के लिए शून्य लागत प्राकृतिक खेती अपनाने की अपार सम्भावना : केन्द्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन 

केन्द्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य है और इसके लिए अनेक पहल की गई हैं। उन्होंने कहा कि हिमालयी राज्यों में अपने उत्पादों के मूल्यबर्धन के लिए शून्य लागत प्राकृतिक खेती अपनाने की अपार सम्भावना है।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय बागवानी मिशन के तहत हिमाचल प्रदेश, जम्मू व कश्मीर तथा उत्तराखण्ड में कुल एक लाख मीट्रिक टन क्षमता के 26 सीए स्टोर स्थापित किए गए हैं। इसी प्रकार, उत्तर-पूर्वी राज्यों में 20 प्रसंस्करण इकाइयां स्थापित की गई हैं। उन्होंने कहा कि सिक्किम राज्य ने जैविक खेती में अग्रणी भूमिका निभाई है और इससे राज्य के किसानों की अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव आया है।

  • मुख्यमंत्रियों का सम्मेलन शिमला में आयोजित करना मुख्यमंत्री की ही पहल है : विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिन्दल

हि.प्र. विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिन्दल ने कहा कि राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के नेतृत्व में अनेक पहल की हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्रियों का सम्मेलन शिमला में आयोजित करना मुख्यमंत्री की ही पहल है।

  • सम्मेलन में अपनाए गए प्रस्तावों को पूरा समर्थन प्रदान करेंगे : केन्द्रीय राज्य गृह मंत्री किरण रिजिजु

केन्द्रीय राज्य गृह मंत्री किरण रिजिजु ने कहा कि हिमालयी राज्यों की अपनी संस्कृति, सामाजिक तथा धार्मिक पहचान है जिसे हर कीमत पर बनाए रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह सम्मेलन में अपनाए गए प्रस्तावों को पूरा समर्थन प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि हिमालयी राज्यों की प्राकृतिक सुन्दरता के कारण पर्यटन की अपार सम्भावना है जिसका पूरी तरह से दोहन किया जाना चाहिए।

  • पहले सत्र का विषय कृषि था, जिसकी अध्यक्षता केन्द्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह तथा सह अध्यक्षता उत्तराखण्ड में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने की जबकि हिमाचल, मणिपुर, उत्तराखण्ड, सिक्किम तथा जम्मू-कश्मीर के कृषि मंत्री इस सत्र में पैनलिस्ट थे।
  • दूसरे सत्र का विषय जल विद्युत था, जिसकी अध्यक्षता मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने अरूणाचल प्रदेश के उप मुख्यमंत्री चौना-मी ने की जबकि त्रिपुरा के सांसद जितेन्द्र चौधरी, प्रधान सचिव ऊर्जा प्रबोध सक्सेना, जम्मू व कश्मीर वन विभाग के सचिव मनोज के द्विवेदी तथा नागालैंड के सेवानिवृत मुख्य सचिव अलमतेमशी जमीर इस सत्र में पैनलिस्ट थे। अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकान्त बाल्दी इस सत्र के मध्यस्थ थे।
  • अन्तिम सत्र का विषय पर्यटन था जिसकी अध्यक्षता केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरेन रिजजू ने नागालैंड के वन मंत्री सी.एम. चॉंग सहित की। मेघालय के पर्यटन मंत्री मितबाह लिंगदोह, उत्तराखण्ड के सांसद रमेश पोखरियाल, मणिपुर के सांसद डॉ. थोकचोम मीन्या, हिमाचल प्रदेश के सांसद वीरेन्द्र कश्यप, उत्तराखण्ड की सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह तथा त्रिपुरा के अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन एवं कृषि डॉ. जी.एस.जी. अयंगार इस सत्र के पैलन में थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *