भानुपल्ली-बिलासपुर-बेरी नई रेल लाईन परियोजना के लिए गठित होगी अनुश्रवण समिति, जो प्रत्येक तीन माह में करेगी परियोजना की प्रगति की निगरानी

बीके अग्रवाल ने संभाला प्रदेश के नए मुख्य सचिव का कार्यभार

  • सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को आम आदमी तक पहुंचाना मुख्य उद्देश्य
  • मुख्य सचिव की जिम्मेदारी पूरी ईमानदारी से निभाने की कोशिश करूंगा : बीके अग्रवाल

शिमला: भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी बीके अग्रवाल ने आज (सोमवार) हिमाचल प्रदेश के नए मुख्य सचिव का पदभार संभाला। आज दिन भर बीके अग्रवाल को बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। आईएएस अधिकारी बीके अग्रवाल ने हिमाचल प्रदेश के 39वें मुख्य सचिव के रूप में पदभार संभाला। बीके अग्रवाल इससे पहले हिमाचल प्रदेश सरकार में अतिरिक्त मुख्य सचिव के पद पर तैनात थे। हिमाचल सरकार ने शनिवार को मुख्य सचिव के पद से सेवानिवृत्त हुए विनीत चौधरी के बाद बीके अग्रवाल को प्रदेश का मुख्य सचिव बनाया है। इससे पहले बीके अग्रवाल हिमाचल प्रदेश सरकार में अतिरिक्त मुख्य सचिव के पद पर तैनात थे। बीके अग्रवाल 1985 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। मुख्य सचिव का पदभार संभालने के बाद बीके अग्रवाल ने कहा कि सरकार ने उन पर भरोसा जताते हुए उन्हें मुख्य सचिव की जिम्मेदारी सौंपी है, उसे वो पूरी ईमानदारी से निभाने की कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को आम आदमी तक पहुंचाना उनका प्रमुख उद्देश्य रहेगा। नशे को लेकर मुख्य सचिव ने कहा कि इसे स्वच्छता अभियान की तर्ज पर जन-जन तक अभियान बनाने की कोशिश की जाएगी। शनिवार को विनीत चौधरी की सेवानिवृति के बाद प्रदेश प्रशासन की सर्वोच्च पद की कमान बीके अग्रवाल को सौंपी गई है।

बीके अग्रवाल 1985 बैच के भारतीय प्रशासनिक अधिकारी हैं। मुख्य सचिव बनने से पहले अग्रवाल अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह तथा विजिलेंस, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, वित्तीय आयुक्त (अपील) और आवासीय आयुक्त, नई दिल्ली का कार्यभार भी संभाल रहे थे। बीके अग्रवाल ने भारत सरकार और हिमाचल प्रदेश सरकार के विभिन्न पदों पर सेवाएं दी हैं। ऊना और कांगड़ा के डीसी भी रहे हैं। अग्रवाल मूल रूप से उत्तरप्रदेश से संबंध रखते हैं। उत्तर प्रदेश में भारतीय खाद्य निगम के महाप्रबन्धक भी रहे। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से हिमाचल लौटने से पहले वह भारतीय सरकार के आवासीय और शहरी मामले मंत्रालय में संयुक्त सचिव के पद पर भी रहे।

बीके अग्रवाल उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले के फतेहगढ़ गांव में 15 जून 1961 को जन्मे। अग्रवाल के पिता स्व. कृष्ण मुरारी लाल केंद्रीय आबकारी विभाग में निरीक्षक थे, जबकि मां सत्यवती शिक्षिका थी। उनकी पत्नी साधना अग्रवाल आगरा की रहने वाली हैं। बेटा अनिमेष इंजीनियर है व बेटी सोनाक्षी एमबीए करने के बाद दिल्ली के गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) में काम करती हैं। राजकीय इंटर महाविद्यालय फतेहगढ़ से प्रारंभिक पढ़ाई के बाद उन्होंने आईआईटी रुड़की से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की और बाद में आईआईटी दिल्ली से एम-टैक किया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  +  42  =  49