शिमला नगर निगम की मासिक बैठक के निर्णय

शिमला नगर निगम की मासिक बैठक के निर्णय

शिमला: नगर निगम की मासिक बैठक का आयोजन शनिवार को बचत भवन में मेयर कुसुम सदरेट की अध्यक्षता में किया गया, जिसमें नगर निगम के डिप्टी मेयर आयुक्त पंकज राय व संयुक्त आयुक्त विकास सूद सहित सभी पार्षदों व अधिकारियों ने भाग लिया। सदन में निगम के नियमित, सेवानिवृत्त अधिकारियों को सितम्बर से 4 फीसदी अंतरिम राहत (आई.आर) के फैसले को मंजूरी प्रदान कर दी है। इससे पूर्व केवल नियमित कर्मचारियों को ही आई.आर. देने का प्रस्ताव सदन में लाया गया था लेकिन नगर निगम आयुक्त पंकज राय ने कहा कि निगम के सेवानिवृत्त कर्मचारियों ने भी अंतरिम राहत देने की मांग की है, ऐसे में सदन ने रिटायर कर्मचारियों को भी आई.आर. प्रदान करने को स्वीकृति प्रदान कर दी है। हाऊस के इस फैसले से नगर निगम के करीब 1,000 से अधिक कर्मचारियों को बड़ी राहत मिली है। हालांकि निगम के खजाने पर इसका प्रभाव पड़ेगा लेकिन कर्मचारियों के लिए यह एक बड़ा तोहफा है। नगर निगम द्वारा इसकी अदायगी 1 जुलाई, 2018 से नकद में की जाएगी, जिससे निगम के खजाने पर सालाना 58,85,272 रुपए का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा।

  • पैट्रोल पंपों से मिलने वाले वैट चार्जिज से निगम ने मांगा 2 प्रतिशत हिस्सा
शिमला नगर निगम की मासिक बैठक

शिमला नगर निगम की मासिक बैठक

नगर निगम परिधि के भीतर पैट्रोल पंपों से प्रदेश सरकार को मिलने वाले वैट चार्जिज पर एम.सी. अब सरकार से हिस्सा लेगा। नगर निगम ने पैट्रोल व डीजल पर वैट चार्जिज के तौर पर 2 रुपए राजस्व शुल्क की मांग की है। निगम सदन ने पैट्रोल पर 1 और डीजल के वैट चार्जिज पर 1 प्रतिशत की दर से हिस्सा निगम को देने के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान कर दी है। प्रदेश सरकार को मौजूदा समय में पैट्रोल पर 27 फीसदी तथा डीजल पर 16 प्रतिशत वैट चार्जिज मिलते हैं, ऐसे में निगम ने पैट्रोल व डीजल के वैट पर 1-1 प्रतिशत राजस्व शुल्क की मांग की है। निगम को यदि सरकार से 2 प्रतिशत राजस्व शुल्क मिलता है तो इससे निगम को अतिरिक्त आमदनी होगी, जिसे शहर के विकास पर व्यय किया जा सकेगा। मामले को हाऊस ने मंजूरी प्रदान कर दी है। अब मामला सरकार के पास अनुमति के लिए भेजा जाएगा।

  • निर्माण सामग्री वेस्ट के लिए अलग से लगेगा संतरी रंग का डंपर

स्वच्छता सर्वेक्षण में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए नगर निगम शहर से निकलने वाले वेस्ट निर्माण को ठिकाने लगाने के लिए शहर में अलग से संतरी रंग का डंपर लगाने जा रहा है ताकि लोग सड़कों, गलियों व नालों में वेस्ट निर्माण सामग्री को नहीं डालें। इसके लिए निगम जल्द ही नई व्यवस्था शुरू करने जा रहा है। हालांकि निगम स्मार्ट सिटी के तहत वेस्ट निर्माण सामग्री को दोबारा से प्रयोग में लाने के लिए प्लांट स्थापित करेगा लेकिन स्वच्छता सर्वेक्षण के तहत टॉप 20 में शिमला को लाने के लिए फिलहाल संतरी रंग के  डंपर लगाए जाएंगे। इसके निगम को अलग से सर्वेक्षण में अंक मिलेंगे।

  • पदमदेव काम्पलैक्स में कमर्शियल गतिविधियों के लिए चुकाने होंगे 75,000 रुपए

नगर निगम के रिज स्थित पदमदेव काम्पलैक्स में गैर व्यावसायिक व व्यावसायिक गतिविधियों के लिए अब एक दिन का 75,000 रुपए शुल्क चुकाना होगा। सरकारी संस्थाओं व विभागों को एक दिन के 13,000 रुपए चुकाने होंगे, साथ ही यदि कोई संस्था सामाजिक कार्यों जैसे स्वास्थ्य जांच शिविर इत्यादि आयोजित करती है तो उसे निगम नि:शुल्क भी प्रदान कर सकता है। इसके लिए मेयर व डिप्टी मेयर की अध्यक्षता में कमेटी गठित की गई है। निगम ने सदन ने पदमदेव काम्पलैक्स के किराए में बढ़ौतरी के फैसले को मंजूरी प्रदान कर दी है। मौजूदा समय में निगम एक दिन के 50,000 रुपए वसूल कर रहा है लेकिन अब इसे 75,000 रुपए कर दिया गया है।

  • संजौली चौक पर बनेगा फुट ओवर ब्रिज

संजौली चौक पर आम जनता की सुविधा के लिए नगर निगम फुट ओवर ब्रिज बनाएगा ताकि लोगों को आने-जाने में परेशानी नहीं उठाने पड़े। इसके लिए मौजूदा रेन शैल्टर व डिस्पैंसरी को यहां से शिफ्ट किया जाएगा ताकि यहां पर फुट ओवर ब्रिज बनाया जा सके। इसके लिए बीते दिनों मुख्यमंत्री ने साइट विजिट कर निगम व विभाग को उचित कार्रवाई अमल में लाने के आदेश दिए थे। डिस्पैंसरी को निगम के क्वार्टर में शिफ्ट करेगा ताकि लोगों को दिक्कत न हो। इसका निर्माण अमृत मिशन के तहत किया जाएगा। सदन ने मामले पर सभी आवश्यक औपचारिकताओं को पूरा करने के आदेश दिए हैं।

  • एम.सी. फंड से निगम करेगा पैंशन का भुगतान

नगर निगम सेवानिवृत्त कर्मचारियों को एम.सी. फंड से पैंशन का भुगतान करेगा। प्रशासन का कहना है कि सेवानिवृत्त  कर्मचारियों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस समय पैंशन निधि का घाटा पूरा करने के लिए नगर निगम को लगभग 85 लाख रुपए मासिक अंशदान दे रहा है जबकि पैंशन योगदान से करीब 12 लाख रुपए प्रतिमाह ही निगम कर्मचारियों से प्राप्त हो रहे हैं। हर महीने पैंशन कर्मचारियों को 85 लाख रुपए का भुगतान करना पड़ता है, ऐसे में पैंशन एवं उपदान निधि में राशि उपलब्ध नहीं होने पर निगम के सेवानिवृत्त कर्मचारियों को पैंशन एवं उपदान राशि का भुगतान रोकना उचित नहीं होगा, जिसके चलते इसका भुगतान एम.सी. फंड से किया जाना चाहिए ताकि कर्मचारियों को परेशानी न उठानी पड़े। मामले को सदन ने मंजूरी प्रदान कर दी है।

  • प्रदर्शनकारियों पर दर्ज एफ.आई.आर. को हटाने के लिए निगम पुलिस अधीक्षक से करेगा पत्राचार।
  • बरसात के तहत हुए नुक्सान की भरपाई के लिए वार्डों में शुरू होंगे मुरम्मत कार्य।
  • नगर निगम की वित्त संविदा एवं योजना समिति, जी.एफ.सी. सहित अन्य समितियों का नए सिरे से होगा गठन।
  • कसुम्पटी वार्ड के साथ लगता क्षेत्र एप्पल गार्डन एरिया को कसुम्पटी वार्ड में शामिल करने को प्रदेश सरकार को भेजा जाएगा प्रस्ताव।
  • कनलोग बाईपास चौक पर बना रेन शैल्टर गिराएगा निगम, बनेगा शौचालय।
  • आई.जी.एम.सी. संजौली तक नगर निगम बनाएगा कवर्ड फुटपाथ।
  • ऐतिहासिक रिज मैदान की मुरम्मत के लिए 30 लाख रुपए का एस्टीमेट पारित।
  • शहर के जिन पंजीकृत तहबाजारियों के बायोमीट्रिक कार्ड बने हैं, उन्हें प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।
  • मई का बिल माफ करने के लिए नगर निगम सरकार को प्रस्ताव भेजेगा।
  • शहर के पार्कों की देखरेख के लिए 10 कर्मचारियों की भर्ती करेगा निगम।
  • निगम खरीदेगा वाहन, चालकों की वर्दी भत्ते में 100 रुपए की बढ़ौतरी

शहर में सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करने तथा गारबेज कलैक्शन के लिए नगर निगम स्पैशल पर्पस व्हीकल खरीदेगा। इसके लिए 1 करोड़ 98 लाख 87 हजार 438 रुपए का एस्टीमेट पारित किया गया है। बैठक में इसकी मंजूरी प्रदान कर दी है। इसके तहत निगम सफाई करने के लिए मशीन, डंपर व सीवरेज की लाइन में लीकेज को ठीक करने के लिए उपकरण खरीदेगा। वहीं नगर निगम ने कार्यरत चालकों की वर्दी भत्ते सहित धुलाई भत्ते को 200 से 300 रुपए मासिक कर दिया है। इससे निगम पर 39,600 रुपए सालाना अतिरिक्त बोझ पड़ेगा।

  • शिमला में बनेंगे दादा-दादी पार्क, रानी झांसी पार्क में 52,000 से लगेगा झूला

शिमला नगर निगम छतीसगढ़ की तर्ज पर शहर में दादा-दादी पार्क बनाएगा। इसके लिए निगम प्रस्ताव तैयार कर रहा है। वरिष्ठ नागरिकों को सम्मान देने के लिए निगम इस योजना को शहर में जल्द शुरू करेगा। नगर निगम के रानी झांसी पार्क में बच्चों के खेलने के लिए नगर निगम 52,000 रुपए की लागत से झूला लगाएगा, इसके लिए एस्टीमेट पारित कर दिया जाएगा। खास बात यह है कि पार्क में लगने वाले इस झूले से निगम प्रति व्यक्ति 20 मिनट के 10 रुपए फीस वसूल करेगा।

  • भारत बिल पेमैंट सिस्टम से होगा बिलों का भुगतान

नगर निगम आम जनता को डिजिटल पेमैंट के प्रति जागरूक करेगा ताकि लोग घर बैठे ही अपने बिजली, पानी व टैक्स सहित अन्य बिलों का भुगतान कर सकें। इसके लिए भारत बिल पेमैंट के पूरे सिस्टम को ऑनलाइन करने की तैयारी कर रहा है। निगम आगामी दिनों में इसके लिए विशेष जागरूकता अभियान शुरू करेगा, साथ ही पार्षदों को जागरूक करने के लिए अगले सदन में पै्रजैंटेशन दी जाएगी।

  • स्वच्छता सर्वेक्षण में टॉप 20 में शिमला को लाने के लिए कवायद शुरू

स्वच्छता सर्वेक्षण 4 से 31 जनवरी को शुरू होगा, इसके लिए नगर निगम ने टॉप 20 में आने के लिए कवायद तेज कर दी है। नगर निगम शिमला को इस सर्वेक्षण में बेहतर प्रदर्शन के लिए इस बार कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। इस बार यह सर्वेक्षण 5,000 अंकों में से होगा, जिसमें अलग-अलग वर्ग में अंकों को विभाजित किया गया है। आयुक्त ने टॉप 20 में आने की उम्मीद जताई है। इसके लिए तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। हाऊस में मामले को प्रैजैंटेशन भी दी गई।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *