भारी बारिश से प्रभावित इलाक़ों में फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने का कार्य युद्धस्तर पर जारी : मुख्यमंत्री

भारी बारिश से प्रभावित इलाक़ों में फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने का कार्य युद्धस्तर पर जारी : मुख्यमंत्री

  • मुख्यमंत्री ने हेलीकॉप्टर से लिया कुल्लू में भारी बारिश के कारण हुए जान-माल के नुक़सान का जायजा
  • मुख्यमंत्री ने की कुल्लू पहुंचकर अधिकारियों के साथ राहत और बचाव कार्यों को लेकर बैठक

 कुल्लू : पूरे प्रदेश में भारी बारिश से काफी क्षति हुई है वहीं अकेले कुल्लू जिला में इस बारिश से सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। लाहौल-स्पीति में सैकड़ों सैलानी फंसे हुए हैं। जिसमें आईआईटी रुड़की के 35 छात्र भी शामिल हैं।  प्रदेश में अभी भी करीब 1500 लोग अलग-अलग इलाकों में फंसे हुए हैं। इन लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है। प्रभावित इलाकों से लोगों को सुरक्षित निकालने का काम शुरू हो गया है।

मुख्यमंत्री ने की कुल्लू पहुंचकर अधिकारियों के साथ राहत और बचाव कार्यों को लेकर बैठक

मुख्यमंत्री ने की कुल्लू पहुंचकर अधिकारियों के साथ राहत और बचाव कार्यों को लेकर बैठक

हिमाचल में भारी बारिश के कारण हुए जान माल के नुक़सान का जायज़ा लेने कुल्लू पहुँचे। उन्होंने सभी अधिकारियों के साथ बैठक कर स्थिति का जायज़ा लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राहत एवं बचाव कार्य युद्धस्तर पर जारी है। राहत और बचाव कार्य में वायुसेना के तीन हेलिकॉप्टर लगाए गए हैं। प्रभावित इलाक़ों से लोगों को सुरक्षित निकालने का कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने सभी सम्बंधित अधिकारियों को प्रभावित इलाकों में सड़क, बिजली और पानी की व्यवस्था को जल्द से जल्द बहाल करने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि समय से पहले हुई इस बर्फबारी से काफी लोग फंसे हुए हैं। जिला लाहौल-स्पीति में इस साल सितंबर माह में भारी बर्फबारी हुई है और फंसे हुए लोगों को सुरक्षित बचाने के लिए हवाई रेस्क्यू शुरू किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे पहले बरसात के मौसम में प्रदेश में हुई भारी बारिश से करीब 1230 करोड़ का नुकसान हुआ है। जबकि पिछले 3 दिनों में हुई बारिश से यह नुकसान काफी बढ़ गया है। लोगों को राहत देने के लिए 230 करोड़ रुपए जारी किए हैं और अभी 30 करोड़ की राहत राशि भी जारी की गई है।

जिला लाहौल स्पीति में 500 से भी अधिक लोग अभी फंसे हुए हैं और सभी लोगों से प्रशासन संपर्क में हैं। लाहौल स्पीति के बारालाचा में सबसे ज्यादा 300 लोग फंसे हुए हैं और सिस्सू व चन्द्रताल में भी सैकड़ों लोग फंसे हुए हैं। बता दें  कि प्रदेश में बीते तीन दिन में हुई भारी बारिश से जानमाल की काफी क्षति हुई है। वहीं सबसे अधिक नुकसान कुल्लू जिले में हुआ है। जिसके लिए राज्य सरकार ने तुरंत कुल्लू के लिए ही 30 करोड़ रुपए जारी कर दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कुल्लू घाटी के होटलियरों, ट्रांसपोर्टरों, व्यापारियों और टैक्सी चालकों से आपदा से पीड़ित लोगों की हर संभव मदद करने की अपील की है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *