“मुख्यमंत्री स्वावलंबन” योजना के तहत कांगड़ा के लिए 9 करोड़ का प्रावधान, योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित: संदीप कुमार

  • : योजना के तहत 18 से 35 वर्ष के युवाओं को स्वरोजगार में सहायता दी जा रही है ताकि बेरोजगारी की समस्या को किया जा सके दूर
  • जनमंच कार्यक्रम में लोगों को दें योजना की जानकारी, योजनाओं का लाभ अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए सभी को किया जाएगा जागरूक : संदीप कुमार
  • : योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित
  • : इच्छुक युवाओं को औद्योगिक विभाग की बेवसाइट पर पंजीकरण करने के उपरांत दिये आवेदन को भरना होगा
  • : आवेदन के साथ हिमाचली प्रमाण-पत्र व आधार कार्ड को अपलोड करना अनिवार्य
  • : उद्यमी के प्रकरण का चयन उपायुक्त की अध्यक्षता में गठित जिला टॉस्क फोर्स कमेटी द्वारा किया जायेगा
  •  : अधिक जानकारी के लिए महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र धर्मशाला के कार्यालय दूरभाष नम्बर-01892-223242  पर कर सकते हैं सम्पर्क

 धर्मशाला : प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के तहत कांगड़ा जिला के लिए इस वित्त वर्ष में 9 करोड़ रुपये बजट का प्रावधान किया है। यह जानकारी उपायुक्त कांगड़ा संदीप कुमार ने देते हुए बताया कि योजना के तहत अभी तक 10 आवेदन प्राप्त हुए हैं जिन्हें स्वीकृति प्रदान की गई है। जिसमें से 5 आवेदन महिलाओं के तथा 5 आवेदन पुरूषों के हैं। वे आज जिला उद्योग केन्द्र धर्मशाला द्वारा आयोजित समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि स्वीकृत परियोजनाओं में परियोजना लागत 259.29 लाख रुपये तथा संयंत्र और मशीनरी में 188.27 लाख लागत निवेश प्रस्तावित है। उन्होंने कहा कि इससे जिला के 68 लोगों को रोजगार प्राप्त होगा। उन्होंने युवाओं से अपील की है कि मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना का लाभ उठा कर स्वरोजगार लगाने के लिए आगे आएं। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत 18 से 35 वर्ष के युवाओं को स्वरोजगार में सहायता प्रदान की जा रही है ताकि बेरोजगारी की समस्या को दूर किया जा सके।

संदीप कुमार ने कहा कि प्रदेश सरकार ने युवाओं के लिए स्वरोजगार के लिए उद्योग स्थापित करने के लिए मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना आरंभ की है। उन्होंने बताया कि योजना के अंतर्गत हिमाचल के स्थाई युवा जिनकी आयु 18-35 वर्ष है, लाभ प्राप्त करने के लिए पात्र हैं। उन्होंने बताया कि युवा यदि उत्पादन क्षेत्र या निर्धारित सेवा क्षेत्र में 50 लाख रुपये तक उद्योग में पूंजी निवेश करते हैं तो उन्हें 40 लाख रुपये के एक प्लांट एवं मशीनरी पर पूंजी निवेश पर 25 प्रतिशत का अनुदान दिया जायेगा तथा महिला उद्यमियों को 30 प्रतिशत निवेश अनुदान दिया जायेगा।

उपायुक्त ने बताया कि इसके अतिरिक्त उद्योग स्थापित करने हेतु बैंक से 40 लाख रुपये तक ऋण के ऊपर ब्याज पर पांच प्रतिशत सबसिडी प्रदान की जायेगी। उन्होंने बताया कि उद्योग स्थापित करने हेतु औद्योगिक क्षेत्रों में प्लाट तथा शैड सस्ती लीज पर मुहैया करवाने जैसे अन्य लाभ भी दिये जा रहे हैं।

  • जनमंच कार्यक्रम में लोगों को दें योजना की जानकारी

उपायुक्त ने कहा कि केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए कई योजनाएं चलाई गई हैं। इन योजनाओं को लाभ अधिक से अधिक व्यक्तियों तक पहुंचाने के लिए सभी को जागरूक किया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को जनमंच कार्यक्रम में लोगों को इस योजना के बारे में जानकारी देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक लोगों को योजना का लाभ प्राप्त करने की प्रक्रिया से अवगत करवाएं और योजना के व्यापक प्रचार प्रसार के लिए लिखित सामग्री वितरित करने के अलावा जागरूकता शिविर लगाएं।

संदीप कुमार ने कहा कि योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किये जा रहे हैं। जिसके लिए इच्छुक युवाओं को औद्योगिक विभाग की बेवसाइट पर पंजीकरण करने के उपरांत दिये आवेदन को भरना होगा। उन्होंने बताया कि आवेदन के साथ हिमाचली प्रमाण-पत्र व आधार कार्ड को अपलोड करना अनिवार्य है। उद्यमी के प्रकरण का चयन उपायुक्त की अध्यक्षता में गठित जिला टॉस्क फोर्स कमेटी द्वारा किया जायेगा। अधिक जानकारी के लिए महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र धर्मशाला के कार्यालय दूरभाष नम्बर-01892-223242 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

उपायुक्त ने जिला कांगड़ा के सभी युवाओं से इस योजना का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाने का आह्वान किया है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  −  2  =  8