अध्यापक केवल कर्मचारी नहीं, बल्कि समाज का पथ प्रदर्शक : शिक्षा मंत्री

अध्यापक केवल कर्मचारी नहीं, बल्कि समाज का पथ प्रदर्शक : शिक्षा मंत्री

शिमला: शिक्षा, विधि एवं संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला पोर्टमोर में आयोजित पदारोहण एवं छात्र परिषद गठन समारोह की अध्यक्षता की। उन्होंने कहा कि इन कार्यक्रमों से जहां विद्यालय के तहत विभिन्न गतिविधियों तथा कार्यों के प्रति छात्रों व शिक्षकों का दायित्व सुनिश्चित होता है, वहीं उनमें परस्पर समन्वय व सहयोग का भाव भी उत्पन्न होता है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि यदि अध्यापक एवं कर्मचारी दृढ़ कार्य संस्कृति के साथ कार्य करें तो प्रदेश के सरकारी विद्यालय निजी अथवा देश के अन्य विद्यालयों से कम नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि हमारे राष्ट्र की संस्कृति प्राचीन व अक्षुण है, जिसमें शिक्षा का सदैव उच्च स्थान रहा है। उन्होंने कहा कि शिक्षा का अर्थ देश को आत्मनिर्भर बनाना होना चाहिए। उन्होंने कहा कि अध्यापक केवल कर्मचारी नहीं, बल्कि समाज का पथ प्रदर्शक है। उन्होंने अध्यापकों से इस भाव के प्रति अपने कार्य निषपादन की आवश्यकता पर बल दिया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *