हिमकोस्ट द्वारा चम्बा में “भौगोलिक संकेतों” पर जागरूकता कार्यशाला आयोजित

हिमकोस्ट द्वारा चम्बा में “भौगोलिक संकेतों” पर जागरूकता कार्यशाला आयोजित

  • भौगोलिक संकेत अधिनियम 1999 के तहत पंजीकरण के लिए कई वस्तुओं की पहचान
भौगोलिक संकेत अधिनियम 1999 के तहत पंजीकरण के लिए कई वस्तुओं की पहचान

भौगोलिक संकेत अधिनियम 1999 के तहत पंजीकरण के लिए कई वस्तुओं की पहचान

चंबा : हिमाचल प्रदेश पेटेंट सूचना केंद्र (एचपीपीआईसी) हिमाचल प्रदेश में विज्ञान, प्रौद्योगिकी और पर्यावरण परिषद (हिमकोस्ट) ने स्थापित भौगोलिक संकेत अधिनियम 1999 के तहत पंजीकरण के लिए कई वस्तुओं की पहचान की है।

एक भौगोलिक संकेत उन उत्पादों पर उपयोग किया जाता है जिनके पास विशिष्ट भौगोलिक उत्पत्ति होती है और उस मूल के कारण गुणवत्ता या प्रतिष्ठा होती है।

एचपीपीआईसी ने भौगोलिक संकेत अधिनियम 1999 के तहत कुल्लू शाल, काँगड़ा चाय, किन्नौरी शाल, चंबा रुमाल और कांगड़ा पेंटिंग्स के लिए पंजीकरण प्राप्त किया है। इसके अलावा, चंबा चप्पल, कला ज़ीरा, चुली ऑयल के आवेदन चेन्नई में भौगोलिक संकेतों के रजिस्ट्रार के साथ प्रक्रिया में हैं।

बचत भवन  चंबा में चम्बा कारीगरों के लिए चंबा (चंबा रुमाल, चंबा चप्पल, हस्तशिल्प, खाद्य उत्पाद, धातु शिल्प) में जागरूकता कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें उपायुक्त चंबा हरिकेश मीना ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। इसके अतिरिक्त पदमश्री विजय शर्मा, डीआईसी प्रबंधक विनीत कुमार विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित हुए। शशि धर एसएसए, रितिका कंवर वैज्ञानिक बी, हिमकोस्ट के वैज्ञानिक अंकुश शर्मा इत्यादि कार्यशाला के लिए संसाधन व्यक्ति उपस्थित हुए।

कार्यशाला के दौरान लगभग 60 प्रतिभागी उपस्थित थे। इस दौरान जीआई के रूप में पंजीकरण के लिए पात्र चंबा के संभावित पारंपरिक उत्पाद की पहचान की गई। जो कि इस प्रकार से हैं:-

  • चंबा चप्पल (प्रक्रिया के तहत)
  • चंबा चुख
  • चंबा थाल
  • चंबा धातु शिल्प
  • चंबा धाम
  • भरमौर राजमाह
  • कुगेट अलू

 

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *