Himachal Pradesh Council for Science, Technology & Environment

हिमकोस्ट करेगा “आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस” पर 15 मई को कार्यशाला का आयोजन, मुख्यमंत्री करेंगे कार्यक्रम की अध्यक्षता

शिमला: राज्य में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के संभावित अनुप्रयोगों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए, एआई विकास द्वारा खुलने वाली नई संभावनाओं का उपयोग करना और यह सुनिश्चित करना कि इस नई तकनीक के उपयोग से उत्पन्न होने वाली संभावित आर्थिक और सामाजिक चिंताओं को संबोधित किया जाए, इस पर “आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस” कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। यह कार्यक्रम” हिमाचल प्रदेश विज्ञान, प्रौद्योगिकी और पर्यावरण परिषद (हिमकोस्ट), शिमला द्वारा आयोजित किया जा रहा है। यह कार्यक्रम 15 मई को कॉन्फेरेस हॉल, आर्म्सडेल बिल्डिंग, हिमाचल प्रदेश सचिवालय, शिमला में आयोजित किया जाएगा। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता हिमाचल के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर करेंगे तथा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के मंत्री विपिन सिंह परमार सम्मानित अतिथि होंगे।

भारत सरकार द्वारा गठित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टास्क फोर्स के अध्यक्ष प्रोफेसर वी. कामकोटी इस सम्मेलन में विशेषज्ञ वक्ता होंगे और डॉ. अनुराग अग्रवाल, निदेशक, जीनोमिक्स और इंटीग्रेटिव जीव विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली, संतानु चौधरी, निदेशक, सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट, पिलानी, राजस्थान द्वारा भी वार्ता की जाएगी। सम्मेलन में वरिष्ठ सचिवों और राज्य के विभिन्न सरकारी विभागों के प्रमुख, विभिन्न विश्वविद्यालयों के वैज्ञानिक और हिमाचल प्रदेश में अनुसंधान एवं विकास संस्थानों के प्रभारी भाग लेंगे।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) स्मार्ट मशीनों, विशेष रूप से स्मार्ट कंप्यूटर प्रोग्राम बनाने का विज्ञान और इंजीनियरिंग है। मशीन लर्निंग सहित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में तेजी से महत्वपूर्ण तकनीकी विकास हो रहा है जो आर्थिक गतिविधि के सभी क्षेत्रो को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर रहा है एआई रिसर्च ने पिछले कुछ वर्षों में कंप्यूटर दृष्टि, भाषण मान्यता प्राकृतिक भाषा प्रसंस्करण, कम्प्यूटेशनल भाषा, तंत्रिका नेटवर्क, मशीन लर्निंग, डेटा खनन इत्यादि सहित विभिन्न उप-क्षेत्रों में विविधता हासिल की है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  +  37  =  39