मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, पौंटा के नए भवन का लोकापर्ण करते हुए

सरकार कृषि उत्पादन को बढ़ाने के लिए प्रयासरत: वीरभद्र सिंह

  • सरकार कृषि उत्पादन को बढ़ाने के लिए प्रयासरत: वीरभद्र सिंह
  • किसानों को बे-मौसमी सब्जियों के उत्पादन के लिए प्रोत्साहित करने के लिए 60 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान
  • सरकार किसानों को पॉलीहाऊसों के निर्माण के लिए 80 प्रतिशत अनुदान प्रदान कर रही है
  • मुख्यमंत्री ने किया किसानों से सरकार द्वारा कार्यान्वित की जा रही योजनाओं का लाभ उठाने का आग्रह
  • युवाओं से पुष्प उत्पादन और बे-मौसमी सब्जी उत्पादन जैसी कृषि एवं संबद्ध गतिविधियों को अपनाने का आह्वान
  • युवाओं से स्वरोजगार अपनाने का किया आग्रह
  • सरकाघाट-घुमारवीं राजमार्ग के निर्माण एवं चौड़ा करने के लिए 167 करोड़ रुपये का बजट का प्रावधान
मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह मण्डी जिले के सरकाघाट विधानसभा क्षेत्र के चन्देश में जनसभा को सम्बोधित करते हुए

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह मण्डी जिले के सरकाघाट विधानसभा क्षेत्र के चन्देश में जनसभा को सम्बोधित करते हुए

मण्डी : मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि प्रदेशवासियों की आजीविका का मुख्य साधन कृषि है और इस क्षेत्र के विकास पर सरकार विशेष बल दे रही है। फसल उत्पादन बढ़ाने के लिए पर्याप्त सिंचाई सुविधाएं उपलब्ध करवाने के साथ-साथ किसानों को तकनीकी सहायता एवं विभिन्न प्रोत्साहन दिए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री आज मण्डी जिले के सरकाघाट विधानसभा क्षेत्र के चन्देश में एक जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों को बे-मौसमी सब्जियों के उत्पादन के लिए प्रोत्साहित करने के लिए 60 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया है। सरकार किसानों को पॉलीहाऊसों के निर्माण के लिए 80 प्रतिशत अनुदान प्रदान कर रही है ताकि वे गुणवत्तायुक्त उत्पादों की पैदावार से अपनी आर्थिकी सुदृढ़ कर सकें। उन्होंने किसानों से सरकार द्वारा कार्यान्वित की जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाने का आग्रह किया। इससे न केवल किसान खुशहाल होंगे, बल्कि राज्य भी समृद्ध होगा।

वीरभद्र सिंह ने युवाओं से पुष्प उत्पादन और बे-मौसमी सब्जी उत्पादन जैसी कृषि एवं संबद्ध गतिविधियों को अपनाने का आह्वान किया। प्रदेश सरकार किसानों व बागवानों को उनकी उपज के वाजिब दाम मिलना सुनिश्चित बना रही है। उन्होंने कहा कि सरकारी क्षेत्र में नौकरियों के सीमित अवसर हैं। उन्होंने युवाओं से स्वरोजगार अपनाने का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार युवाओं को कौशल विकास भत्ता योजना के अन्तर्गत विभिन्न व्यवसायों में कौशल उन्नयन के समुचित अवसर प्रदान करने के साथ-साथ युवाओं को कौशल विकास भत्ता भी प्रदान कर रही है। राज्य में अनेक औद्योगिक इकाइयां स्थापित की जा रही हैं, जिनमें युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध हो रहे हैं।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि गत अढ़ाई वर्षों के दौरान मण्डी संसदीय क्षेत्र में तीव्र विकास हुआ है और अनेक विकास परियोजनाएं आरम्भ की गई हैं। प्रदेश सरकार सड़कों के सुधार पर विशेष बल दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकाघाट-घुमारवीं राजमार्ग के निर्माण एवं चौड़ा करने के लिए 167 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्राम पंचायत गाहर के अन्तर्गत चन्देश में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने की मांग पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाअएगा। उन्होंने भागड़ागलु में आयुर्वेदिक औषधालय खोलने और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला चन्देश की मुरम्मत एवं अतिरिक्त खण्ड के निर्माण के लिए एक करोड़ रुपये की घोषणाएं की।

उन्होंने इस क्षेत्र के लिए औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान खोलने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि क्षेत्र की पाठशालाओं से संबंधित अन्य मांगों को आगामी शैक्षणिक सत्र के दौरान पूरा किया जाएगा। वीरभद्र सिंह ने सरकाघाट में खेल आवास (बास्केट-बॉल) की स्थापना करने की भी स्वीकृति प्रदान की। उन्होंने सरकाघाट अस्पताल का निरीक्षण किया और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को इस सम्बन्ध में आवश्यक निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने 3.37 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला, पौंटा के नए भवन की आधारशिला रखी। उन्होंने सरकाघाट के अन्तर्गत डैहर से ग्राम पंचायत कोट, नवाणी, कशमैला, ढनालग, चौक, जैहमट और नरोला के लिए 22 करोड़ रुपये की विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं के स्रोत स्तर विस्तार की आधारशिला रखी। इस परियोजना 9 पंचायतों के 118 गांवों की 22 हजार की आबादी लाभान्वित होगी।

इसके पश्चात, मुख्यमंत्री ने कोट में एक जनसभा में कहा कि पूर्व सरकार ने बिना बजट प्रावधान और समुचित अधोसंरचना के प्रदेश में अनेक महाविद्यालय खोले थे तथा बलद्वाड़ा महाविद्यालय को केवल दो कमरों में ही आरम्भ कर दिया था। इसके विपरीत वर्तमान सरकार ने प्रदेश में अनेक महाविद्यालय खोले हैं, जिनमें पर्याप्त बजट एवं अधोसंरचना का प्रावधान किया गया है। उन्होंने निकट भविष्य में बलद्वाड़ा महाविद्यालय आरम्भ करने का आश्वासन भी दिया।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि धूमल सरकार ने गत विधानसभा चुनावों के दौरान मतदाताओं को लुभाने के लिए बिना बजट प्रावधान के अनेक घोषणाएं की थीं। उन्होनें कहा कि पूर्व भाजपा सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को पंजाब मंत्रिमण्डल उप-समिति की अनुशंसा के आधार पर प्रोत्साहन प्रदान किया था, जबकि हिमाचल प्रदेश इसका अनुसरण नहीं करती।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान कांग्रेस सरकार विपक्षी विधायकों को सरकारी समारोहों में सम्मिलित होने के समान अवसर प्रदान कर रही है ताकि वे सरकार के समक्ष अपनी मांगें रख सकें, जबकि भाजपा सरकार ने मुख्यमंत्री के समारोहों में कांग्रेस विधायकों की अनदेखी की। वीरभद्र सिंह ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को जाहू पुल का शीघ्र पुनःनिर्माण करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार रंगीला राम राव ने क्षेत्र के विकास का श्रेय मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में सत्तासीन रही कांग्रेस सरकारों को दिया। उन्होंने क्षेत्र के विकास का उल्लेख करते हुए क्षेत्र की अनदेखी के लिए पूर्व सरकार की कड़ी आलोचना की।

प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि युवा कांग्रेस ने मण्डी जिला में रोजगार मेलों के आयोजन की पहल की है और भविष्य में प्रदेश के अन्य भागों में भी इसी तरह के रोजगार मेलों के आयोजन किए जाएंगे ताकि युवाओं को विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों में रोजगार के अवसर उपलब्ध हों। उन्होंने कहा कि युवा कांग्रेस इस क्षेत्र के युवाओं के लिए निकट भविष्य में रोजगार मेलों का आयोजन करेगी।

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *