कृषि वैज्ञानिक खेतों तक पंहुचाएं अनुसंधान : महेन्द्र सिंह ठाकुर

कृषि वैज्ञानिक खेतों तक पंहुचाएं अनुसंधान : महेन्द्र सिंह ठाकुर

  • वाई.एस.परमार औद्यानिकी एंव वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी में भारतीय कृषि विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के 9वें सामूहिक विचार-विमर्श अधिवेशन का शुभारम्भ
  • कार्यशाला में देश के 22 विश्वविद्यालयों के कुलपति ले रहे हैं भाग
कृषि वैज्ञानिक खेतों तक पंहुचाएं अनुसंधान : महेन्द्र सिंह ठाकुर

कृषि वैज्ञानिक खेतों तक पंहुचाएं अनुसंधान : महेन्द्र सिंह ठाकुर

सोलन: कृषि वैज्ञानिकों से सिंचाई एंव जन स्वास्थ्य, बागवानी तथा सैनिक कल्याण मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने आग्रह किया कि वे अपने अनुसंधान एवं ज्ञान को खेतों तक पंहुचाएं ताकि किसान एंव बागवान तकनीक में हो रहे परिवर्तन एवं नवीन अनुसंधान से शीघ्र लाभान्वित हो सकें। महेन्द्र सिंह ठाकुर आज डॉ. वाई.एस.परमार औद्यानिकी एंव वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी में भारतीय कृषि विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के 9वें सामूहिक विचार-विमर्श अधिवेशन का शुभारम्भ करने के उपरान्त उपस्थित कुलपतियों, कृषि वैज्ञानिकों एवं छात्रों को सम्बोधित कर रहे थे। कार्यशाला में देश के 22 विश्वविद्यालयों के कुलपति भाग ले रहे हैं।

उन्होंने विश्वविद्यालय परिसर में 15 लाख रुपए की लागत से निर्मित होने वाले एचपीएमसी उत्पाद बिक्री केन्द्र की आधारशिला रखी। उन्होंने नेचर इंटरप्रिटेशन कम ट्रेंनिग सैटर तथा एपीकल्चर लैब का शिलान्यास भी किया। इसके निर्माण पर 1.5 करोड़ रुपए व्यय होंगे। बागवानी मंत्री ने इस अवसर पर कार्यशाला की स्मारिका का विमोचन भी किया।

ठाकुर महेन्द्र सिंह ने कहा कि हिमाचल की विविध जलवायुगत परिस्थितियां भिन्न-भिन्न फसलों एवं फलों की खेती के लिए सर्वथा अनुकूल हैं। इसके लिए आवश्यक है कि कृषि वैज्ञानिक क्षेत्र विशेष की जलवायु के अनुरूप अनुसंधान करें और किसानों एवं बागवानों तक इसे पंहुचाएं। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में सेब के साथ-साथ विभिन्न अन्य फलों के उत्पादन की अपार सम्भावनाएं हैं। उन्होंने कृषि तथा बागवानी वैज्ञानिकों का आह्वान किया कि वे सेब के साथ हिमाचल में जलवायु अनुसार अन्य फलों के उत्पादन की सम्भावनाएं भी तलाशें।  बागवानी मंत्री ने कहा कि प्रदेश को बेमौसमी सब्जियों तथा नकदी फसलों के उत्पादन में देश में अग्रणी बनाया जा सकता है। इसके लिए न केवल किसानों को इस दिशा में प्रेरित करना होगा अपितु उन्हें गुणवत्तायुक्त बीज एवं अन्य सुविधाएं भी मुहैया करवानी होंगी। उन्होंने कहा कि कृषि वैज्ञानिक पूरे प्रदेश के लिए ऐसी परियोजना शीघ्र तैयार करें जो पर्यावरण एवं जलवायु के अनुरूप कृषि एवं बागवानी को विकसित करने में सहायक हो। उन्होंने कृषि विश्वविद्यालयों में पाठ्यक्रमों में अनुसंधान पर अधिक बल देने का आग्रह किया।

डॉ. वाई.एस.परमार औद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी के कुलपति डॉ.एच.सी शर्मा ने सभी का स्वागत किया तथा विश्वविद्यालय की गतिविधियों एवं कार्यशाला की विस्तृत जानकारी प्रदान की। इस अवसर पर कृषि विश्वविद्यालय संघ, नई दिल्ली के अध्यक्ष एन.सी पटेल ने भी सारगर्भित जानकारी प्रदान की। विश्वविद्यालय के कुल सचिव राजेश मारिया ने धन्यावाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया। सम्मेलन दो दिनों तक चलेगा, जिसमें पांच तकनीकी सत्र और एक पूर्ण सत्र का आयोजन किया जाएगा। मशीनीकरण और उच्च घनत्व संयंत्र, जैव प्रौद्योगिकी दृष्टिकोण और कल्टीवार विकास,एकीकृत कृषि प्रणालियों और विपणन, बागवानी प्रणालियों में पोषक तत्व और कीट प्रबंधन और टिकाऊ फसल उत्पादन के लिए प्राकृतिक खेती जैसे विषयों पर विचार-विमर्श किया जाएगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *