प्रदेश सरकार स्थानांतरण नीति में परिवर्तन लाने पर कर रही है विचार : सुरेश भारद्वाज

प्रदेश सरकार स्थानांतरण नीति में परिवर्तन लाने पर कर रही है विचार : सुरेश भारद्वाज

  • शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने में शिक्षकों की अहम भूमिकाः सुरेश भारद्वाज

शिमला : शिक्षा, विधि व संसदीय मामले मंत्री सुरेश भारद्वाज ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला लालपानी में आयोजित दो दिवसीय प्रांतीय सेमिनार के समापन समारोह की अध्यक्षता की। इस असवर पर सुरेश भारद्वाज ने कहा कि हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ द्वारा आयोजित सेमिनार के विषय ‘प्राथमिक शिक्षाः दशा और दिशा’ से स्पष्ट है कि शिक्षक वर्ग शिक्षा में गिरते स्तर में सुधार लाने के लिए प्रयत्नशील है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में दूर दराज क्षेत्रों तक शिक्षा का विस्तार हुआ है। प्रतिस्पर्धा के इस युग मे अध्यापकों को पढ़ाई में गुणवत्ता लाने के लिए अथक परिश्रम करना होगा। उन्होंने कहा कि अध्यापक प्राईमरी स्कूलों में बच्चों की संख्या बढ़ाने के लिए पंचायत जन प्रतिनिधियों तथा अभिभावकों का सहयोग लेना सुनिश्चित करें। उन्होंने शिक्षक महासंघ को निजी स्वार्थों को त्यागकर शिक्षा के स्तर को बढ़ाने में अपनी सहभागिता दर्ज करवाने का आग्रह किया।  इस अवसर पर उन्होंने शिक्षक महासंघ की पत्रिका ‘प्राथमिक शिक्षाः दशा और दिशा’ का विमोचन भी किया।

उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा शिक्षण प्रक्रिया को अधिक प्रभावशाली बनाने के लिए विद्यालयों में ‘जाॅय आॅफ लर्निंग सैशन’ आरंभ किए जाएंगे, ताकि शिक्षण ज्ञान बढ़ाया जा सके। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए पाठशाला में सभी बुनियादी सुविधाएं होना अत्यंत आवश्यक है। इसके लिए प्रदेश सरकार एक नई योजना ‘मुख्यमंत्री आदर्श विद्या केंद्र’ आरंभ करेगी।  इस योजना के अंतर्गत चरणबद्ध तरीके से सभी विधानसभा क्षेत्रों में जहां नवोदय विद्यालय या एकलव्य विद्यालय नहीं हैं, वहां पर एक आदर्श आवासीय विद्यालय स्थापित करेगी। इसमें सभी सुविधाओं के साथ निशुल्क शिक्षा प्रदान की जाएगी तथा छात्रावास की सुविधा भी उपलब्ध होगी। प्रथम चरण में ऐसे 10 आदर्श विद्यालय स्थापित किए जाएंगे, जिनके लिए 25 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान किया गया है। उन्होंने गुणात्मक शिक्षा में वृद्धि व सुधार लाने के लिए शिक्षक संघ व अध्यापकवर्ग के सुझावों को आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार स्थानांतरण नीति में परिवर्तन लाने पर विचार कर रही है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *